चिरौंजी में छिपे हैं सेहत से जुड़े ये फायदे जो आपको चौंका देंगे

0

मिठाइयों और पकवानों का जायका बढ़ाने के लिए उनमें डाली जाने वाली चिरौंजी सेहत के लिहाज से बहुत ही फायदेमंद होती है। प्रोटीन से भरपूर चिरौंजी के बीज में कैलोरी बहुत ही कम होती है। फाइबर के साथ ही इसमें विटामिन सी, बी1, विटामिन बी2 और नियासिन आदि भी मौजूद होते हैं। कैल्शियम, फॉस्फोरस और आयरन जैसे मिनरल्स भी इसमें होते हैं। चिरौंजी के बीज और तेल में एमीनो एसिड, लीनोलीक, मिरिस्टीक, ओलिक, पॉमिटिक और स्टीएरिक एसिड भी पाए जाते हैं।

चिरौंजी सेहत के लिए किस प्रकार से फायदेमंद है, इसके बारे में जानेंगे।

सर्दी-जुकाम दूर करने में

सर्दी-जुकाम होने पर 5-10 ग्राम चिरौंजी को हल्का-सा सेंक लें। ठंडा होने पर इसे पीस लें। एक कप दूध में इस पाउडर को मिलाकर उबाल लें। स्वादानुसार चीनी और इलायची डालकर पीने से काफी राहत मिलती है।

कफ की समस्या करता है दूर

सर्दी-खांसी होने के साथ ही कफ की समस्या होना आम बात है। सांस लेने में परेशानी के साथ ही खरास की शिकायत भी बनी रहती है। इन दोनों से छुटकारा पाने के लिए 5-10 ग्राम चिरौंजी खानी चाहिए और साथ ही इसे दूध में पीसकर इससे मालिश भी करना चाहिए।

चेहरे पर चमक आती है

इसे पीसकर गुलाबजल में मिलाकर चेहरे पर लगाएं व सूखने पर सामान्य पानी से धो लें। इससे चेहरे पर चमक आती है। इसे लगाने से मुहांसे दूर होते हैं। संतरे के छिलके और चिरौंजी को दूध के साथ पीस कर चेहरे पर लेप लगाएं। लगभग एक हफ्ते तक ऐसा करने से मुहांसे कम हो जाएंगे। चिरौंजी के 10-12 दानों को रात में थोड़े दूध भिगो दें। इन्हें पीसकर चेहरे पर लगाने से झांइयां गायब हो जाती हैं।

चेहरे की फुंसियां

चेहरे की फुंसियों पर चिरौंजी को गुलाबजल में पीसकर मालिश करने से चेहरे की फुंसियां ठीक हो जाती हैं।

शीतपित्त

चिरौजी की 50 ग्राम गिरी खाने से शीत पित्त में जल्दी आराम आता है। चिरौंजी को दूध में पीसकर शरीर पर लेप करने से शीतपित्त ठीक होती है।चिरौंजी और गेरू को सरसों के तेल में पीसकर मलने से पित्ती शान्त हो जाती है।

बालों को काला करे

चिरौंजी का तेल बालों को काला करने के लिए उपयोगी है।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

शारीरिक सौंदर्यता

ताजे गुलाब के फूल की पंखुड़िया, 5 चिरौंजी के दाने और दूध की मलाई को पीसकर होठों पर लगा लें और सूखने के बाद धो लें। इससे होठों का रंग लाल हो जाता है और फटे हुए होंठ मुलायम हो जाते हैं।

विभिन्न रोगों चिरौंजी से उपचार

  1. दूध में चिरौंजी की खीर बनाकर खाने से शरीर का पोषण होता है |
  2. पांच-दस ग्राम चिरौंजी पीसकर उसमें मिश्री मिलाकर दूध के साथ खाने से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है |
  3. पांच -दस ग्राम चिरौंजी की गिरी को खाने से तथा चिरौंजी को दूध में पीसकर मालिश करने से शीतपित्त में लाभ होता है |
  4. चिरौंजी को गुलाब जल में पीसकर चेहरे पर लगाने से मुंहांसे ठीक होते हैं |
  5. खूनी दस्‍त रोके 5-10 ग्राम चारोली को पीसकर दूध के साथ लेने से खूनी दस्त में लाभ होता है।
  6. चिरौंजी की ५-१० ग्राम गिरी को भूनकर ,पीसकर २०० मिलीलीटर दूध मिलाकर उबाल लें | उबालने के बाद ५०० मिलीग्राम इलायची चूर्ण व थोड़ी सी चीनी मिलाकर पिलाने से खांसी तथा जुकाम में लाभ होता है ।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply