जानिए चक्कर क्यों आते है और इससे निजात पाने के घरेलु उपाय

0

चक्कर आना, सिर घूमना, सिर चकराना के रामबाण घरेलु उपाय इलाज इन हिंदी: चक्कर आना-एक ऐसी परेशानी है, जिसमें व्यक्ति को सब कुछ घूमता नजर आता है। यह अपने आपमें बीमारी नहीं है अपितु एक लक्षण है। शरीर में अन्य परेशानियों के कारण चक्कर आना प्रारम्भ हो सकता है। यह परेशानी सभी उम्र के लोगों में हो सकती है। बहुधा चक्कर आने के बारे में सही प्रकार से बता पाना मरीज के लिए कठिन होता है। ऐसे में पूरी और सही जानकारी उस समय मरीज को महसूस हो रही चक्कर आने संबंधी परेशानियों को चक्कर आने के अन्य प्रकारों जैसे बेहोशी, सिर का हल्कापन, ड्राप अटैक्स स्थिति के हिसाब से रक्त चाप के घटने-बढ़ने से अलग करके लेना चाहिए। मरीज को सही और विस्तार से डाक्टर को जानकारी देनी चाहिए।

चक्कर आना-तीन प्रकार का होता है-

1.’ऑब्जेक्टिव’-इसमें व्यक्ति को यह महसूस होता है कि सभी वस्तुएं घूम रही हैं।

2.’सब्जेक्टिव’-इसमें व्यक्ति को यह आभास होता है कि वह स्वयं घूम रहा है।

3. ‘स्यूडो वर्टाइगो’-इसमें व्यक्ति को सिर के अंदर घूमने का आभास होता है।

चक्कर आने के कारण – chakkar aane ke karan in hindi

  1. रक्तचाप का अधिक या कम होना
  2. मष्तिस्क में रक्त की आपूर्ति कम होना
  3. डायबिटीज’ के कारण धमनियां कठोर हो जाती हैं, जिसके कारण मस्तिष्क को रक्त आपूर्ति में बाधा होती है। इस कारण चक्कर आ सकता है।
  4. कान के बीच में सूजन होना।
  5. सर्वाइकल स्पोन्डिलाइसिस’ का स्नायुओं पर दबाव पड़ना।
  6. आंखों का रोगग्रस्त होना।
  7. आंतों में परेशानी होना।
  8. माइग्रेन’ के कारण भी चक्कर आ सकता है। इसमें चक्कर के साथ-साथ सिर का दर्द भी बना रहता है।
  9. ‘ड्रग्स’ और शराब के सेवन से भी चक्कर आने की परेशानी उत्पन्न होती है।
  10. अधिक सम्भोग या हस्तमैथुन करना।
  11. शरीर में खून की कमी (एनीमिया)।
  12. स्त्रियों में मासिक धर्म की गडबडी होना।

चक्कर आने के लक्षण – chakkar aane ke lakshan in hindi

चक्कर आने की परेशानी यदि वास्तविक है तो भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है।
इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों में से कुछ अथवा सभी लक्षण महसूस हो सकते हैं-

  1. मिचलाहट अथवा उल्टी
  2. पसीना आना
  3. आंखों में असामान्य गतिविधि

इन लक्षणों की अवधि मिनटों से घंटों तक हो सकती है। यह लक्षण स्थायी अथवा अस्थायी भी हो सकते हैं।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

चक्कर आने के घरेलू उपचार

chakkar aane ke gharelu upchar upay in hindi

  1. छोटी इलायची के काढ़े को गुड़ में मिलाकर सुबह-शाम पीने से बार-बार चक्कर आना बन्द हो जाता है।
  2. यदि गर्मी के कारण चक्कर आते हों व जी मिचलाता हो तो आंवले का शर्बत पीना चाहिए।
  3. 2 लौंग को 2 कप पानी में डालकर उबालकर पीने से चक्कर आना बन्द होते हैं।
  4. तुलसी के पत्तों का रस 5 बूंद और चीनी एक चम्मच पानी में आधा कप पानी में मिलाकर सेवन करने से लू के मौसम में चलने वाली गर्म हवा नहीं लगती है तथा चक्कर नहीं आते हैं।
  5. प्याज के रस को सूंघने से चक्कर आना ठीक हो जाता है।
  6. लगभग 4 या 5 मुनक्के को पानी में मथकर पीने से चक्कर आना बन्द हो जाते हैं।
  7. सौंफ को पीसकर सिर पर लगाने से गर्मी के कारण आने वाले चक्कर और सिर दर्द ठीक हो जाते हैं।
  8. कालीमिर्च चबाने से जी नहीं मिचलाता और चक्कर नहीं आते।
  9. तुलसी का रस, अदरक का रस और शहद मिलाकर पीने से चक्कर आने बन्द हो जाते हैं।
  10. चीनी और सूखा धनिया 2-2 चम्मच मिलाकर चबाने से चक्कर आना बन्द हो जाता है
  11. एक कप गर्म पानी में लगभग 2 चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीने से चक्कर आना बन्द होता है।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply