इसे पीते ही बवासीर (पाइल्स) जड़ से ख़त्म हो जाएगी

0

बवासीर अर्थार्त पाइल्स जोकि आजकल बहुत ही दर्दनाक बीमारी है जिससे बैठने उठने में परेशानी होती है |बववासिर में मलाशय के आसपास की नसों में सूजन आ जाती है |बवासीर दो प्रकार से होती है एक तो खुनी बवासीर और दूसरी बादी बवासीर |खुनी बवासीर में मस्सो में से  खून आता है और इसमे मस्से लाल रंग के होते है |

खुनी बवासीर में मस्से पहले अंदर होते है बाद में धीरे धीरे बाहर आ जाते है और इसमे से खून टपकता रहता है |और बादी बवासीर में में तो ज्यादातर पेट ख़राब रहता और कब्ज की शिकायत ज्यादा रहती इसमे मस्से अंदर होते और मल त्यागने का रास्ता छोटा रहता है |बादी बवासीर में मस्सो का रंग काला होता है |इन मस्सो में खाज ,सूजन ,जलन व बेहद दर्द होता है |अगर बवासीर का जल्दी इलाज न किया जाए और ये पुरानी हो जाए तो इससे भगन्दर रोग भी हो सकता जिसका इलाज बहुत ही मुश्किल है और बाद में धीरे धीरे ये रोग कैंसर का रूप ले लेता है जिसे रिक्टम कैंसर भी कहा जाता है |

जोकि जान लेवा होती है |बवासीर को अनुवांशिक बीमारी भी कही जाती है |बवासीर होने की संभावना उन लोगो को ज्यादा होने की होती जो ज्यादा खड़े रहते ,तेज मिर्च मसाले वाला भोजन खाते  ,या फिर उन लोगो को जिनको ज्यादातर पेट की बीमारिया रहती उनको बवासीर की प्रॉब्लम हो सकती है |बवासीर उन लोगो को भी हो सकती जिन्हें मोस्टली कब्ज की शिकायत रहती क्योकि कब्ज की स्थिति में मल काफी सख्त होता और बवासीर हो जाती |

बवासीर ज्यादा खतरनाक व तकलीफदेह हो सकती अगर इसका सही समय पर इलाज न किया जाए |तो आइये दोस्तों हम आपको बवासीर रोकने के कुछ घरेलू व देसी नुश्खे बताते जिनका प्रयोग करके आप समय रहते बवासीर का इलाज कर सकते और अपनी तकलीफ कम कर सकते है :

1. बवासीर चाहे खुनी हो या बादी अगर आप मूली का सेवन करते हो तो बवासीर में मूली एक रामबाण का काम करती है |आपने मूली सुबह खाली पेट खानी है और यह बवासीर में बहुत लाभ देती है |

2. बवासीर में किशमिश भी बहुत फायदा देती है आप रात भर किशमिश को पानी में भिगोकर रख दे और सुबह खाली पेट भीगे हुवे पानी में किशमिश को थोड़ा मथ ले और उसी पानी को किशमिश  सहित खा ले |कुछ दिनों तक इसका लगातार प्रयोग करे तो बवासीर में बहुत ही लाभ मिलेगा |

3. बवासीर में यदि मस्से फूल गए हो आप आप छाछ का सेवन ज्यादा करे |आप एक जग छाछ ले और उसमे जीरा पाउडर व थोड़ा सा नमक मिला ले |और जब भी आपको प्यास लगे पानी की जगह आप छाछ का सेवन करे |कुछ दिनों तक ऐसा करने से बवासीर में बहुत है आराम मिलेगा |

4. खजूर भी बवासीर में बहुत फायदा पहुंचाती है |खजूर को भी आप रात को पानी में भिगो दे और सुबह खाली पेट भीगे हुवे पानी के साथ खजूर का सेवन करे | खजूर का सेवन  करने से आपका पेट भी ठीक रहेगा और आपको कब्ज से भी रहत मिलेगी |

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

5. बवासीर में सेब का सिरका भी बहुत फायदा देती है अगर आपके मस्सो में दर्द हो रहा हो तो आप कॉटन जिसे रुई कहते है सेब के सिरके में भिगो कर मस्सो पर लगा ले |सेब के सिरके को मस्सों पर लगाने से मस्सो में दर्द ,खुजली ,जलन नहीं होगी |ऐसा करने से आपको मस्सो में तुरंत आराम मिलेगा |या फिर आप दिन में कभी भी दो से तीन चम्मच सिरके में पानी मिलाकर पी ले |इससे भी बवासीर में बहुत ही लाभ  मिलेगा |

6. प्याज से भी बवासीर का इलाज संभव है |प्याज को बवासीर में एक रामबाण औषधि माना जाता है |आप प्याज को अपने खाने में भी इस्तेमाल करे |या फिर आप एक प्याज ले और उसका रस निकल ले और इस रस में चीनी मिलाकर सात से आठ दिन तक सुबह और शाम सेवन करे |इससे बवासीर मन बहुत ही जायद फायदा मिलेगा |

7. अगर बवासीर के मस्सो से खून आ रहा हो तो आप धुले हुवे काले तिल को ताजे मक्खन के साथ लेने से बवासीर के मस्सो से खून आना बंद हो जायेगा |

दोस्तों आप इन देसी नुस्खों  के अलावा कुछ बाटो का धयान रखे जैसे की आप तेज मिर्च मसालों से युक्त खाना न खाये ,जंक फ़ूड का सेवन बंद करे ,चाय व कॉफ़ी का सेवन बंद ,मैदे से बानी चीजे न खाये ,शराब व ध्रूमपान का सेवन बंद करे |बवासीर के मरीज कब्ज से बचे इसके लिए आप रेसेदार कहना खाये ,फ्रूट्स का ताज़ा जूस पिए ,हर रोज दिन ज्यादा से ज्यादा पानी पिए ,मटर ,बीन्स ,डाले राजमा का सेवन करे |

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply