अगर देसी घी नहीं खाएंगे तो आपके शरीर को हो सकते है ये नुकसान, जानिए

1

स्वास्थ्य के प्रति जागरूक लोगों के अंदर इन दिनों यह सनक पैदा हुई है कि देसी घी स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। लेकिन अगर आप आयुर्वेद की बात करेंगे तो आपको पता चलेगा कि घी में कई बेजोड़ स्वास्थ्य लाभ होते हैं, जो कि पोषित किया गया है। लेकिन आजकल लोग कोलेस्ट्रॉल के डर से देसी घी से बिल्कुल दूरी बना चूकें हैं। कुछ लोग हाइड्रोजनीकृत वनस्पति तेलों के लिए देसी घी का सेवन करना बंद कर देते हैं, जो उनकी सबसे बड़ी गलती है। देसी घी का सेवन बंद करना एक तरह की बेवकूफी होती है। वैज्ञानिक तथ्यों के अध्ययन के मुताबिक देसी घी का सेवन बंद करना गलत है, देसी घी एक बेहद पौष्टिक भोजन है।

- ghee benefits - अगर देसी घी नहीं खाएंगे तो आपके शरीर को हो सकते है ये नुकसान, जानिए

अगर आप देसी घी को बनाने की प्रक्रिया को जान लेंगे, तो ऐसे में आपको यह बात याद आएगी कि घी बनाने के लिए मक्खन को गर्म किया जाता है। मक्खन में होने वाला पानी गर्म होने पर भाप में बदलकर उड़ जाता है। इसके बाद बढ़ते तापमान के कारण दूध प्रोटीन और नमक जलने लगता है और ब्राउन रंग का हो जाता है। यही कारण है कि घी एक अखरोट का स्वाद होता है। घी दूध से ही प्राप्त किया जाता है और दूध एक जानवर से प्राप्त किया जाता है। इसी कारण घी में संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा होती है।

लेकिन यहां जानकारी आधी अधूरी है। हर तरह के संतृप्त वसा में कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने वाले प्रभाव होते हैं। अगर आप देसी घी की बात करते हैं, तो देसी घी के कुछ ही फैटी एसिड हमारे शरीर पर प्रभाव डालते हैं। देसी घी में 65 प्रतिशत संतृप्त और 32 प्रतिशत वसा है, जिसे एमयूएफए (मोनो असंतृप्त वसीय अम्लों) के नाम दिया गया है। एमयूएफए में अत्यधिक डाइट्री फेट होता है, जो कि ऑलिव ऑयल में भी मिलता है। अगर आप स्कोर पर विचार करें, तो देसी घी इस सूची में सूरजमुखी, कुसुम, मक्का और कॉटन सीड ऑयल्स का तेल सबसे ऊपर होता है।

- health benefits of ghee in hindi - अगर देसी घी नहीं खाएंगे तो आपके शरीर को हो सकते है ये नुकसान, जानिए

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

जिन लोगों को ऐसा लगता है कि देसी घी में काफी कैलोरी होती हैं, उन्हें यह बता दें कि देसी घी में तेल से काफी कम कैलोरी मौजूद होती है। लेकिन आप देसी घी की अत्यधिक मात्रा का सेवन कर सकते हैं।

इसके अलावा देसी घी में विटामिन ए, विटामिन डी और राइबोफ्लेविन के साथ ही कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम जैसे मिनरल्स भी मौजूद होते हैं। आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि देसी घी में विटामिन ए का अच्छा स्रोत होता है, इसी के साथ यह स्वस्थ त्वचा को बनाए रखने के लिए आवश्यक होता है। इसके अलावा यह एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह भी काम करता है। शरीर में हड्डियों के स्वास्थ्य और तंत्रिका तंत्र को बनाए रखने के लिए विटामिन डी ए, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस की जरूरत होती है। इलेक्ट्रोलाइट संतुलन के लिए पोटेशियम कोशिकाओं की जरूरत होती है और यह दिल की धड़कन को विनियमित करने के लिए आवश्यक होती है।

- - अगर देसी घी नहीं खाएंगे तो आपके शरीर को हो सकते है ये नुकसान, जानिए

उपर्युक्त जानकारी और शोध से यह निष्कर्ष होता है कि देसी घी को पूरी तरह से छोड़ देना हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है। ऐसा भी नहीं है कि आप हर तरह के खाने में घी का इस्तेमाल करें, ऐसे में आप एक संयोजन बना सकते हैं। आप देसी घी को तिल के तेल, सरसों के तेल और जैतून का तेल के साथ मिलाकर सेवन कर सकते हैं।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

1 COMMENT

  1. परहेज क्या क्या हे
    पुरी जानकारी सहित ब्यौरा दे कृपया अधुरी जानकाी ना दे ा

Leave a Reply