जानिए कैसे बहुत सी बीमारियों में फायदेमंद है लौंग

0

साधारण से सर्दी-जुकाम से लेकर कैंसर जैसे गंभीर रोग के उपचार में लौंग का इस्तेमाल किया जाता है। इसके गुण कुछ ऐसे हैं कि न सिर्फ आयुर्वेद बल्कि होम्योपैथ व एलोपैथ जैसी चिकित्सा विधाओं में भी बहुत अधिक महत्व आंका जाता है।
चाहे भोजन का जायका बढ़ाना हो या फिर दर्द से छुटकारा, छोटी सी लौंग को न सिर्फ अलग-अलग तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है बल्कि इसके फायदे भी अनेक हैं।

मसाले के रूप में लौंग का इस्तेमाल शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। इसमें प्रोटीन, आयरन, कार्बोहाइड्रेट्स, कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, सोडियम और हाइड्रोक्लोरिक एसिड भरपूर मात्रा में मिलते हैं। इसमें विटामिन ए और सी, मैग्नीज और फाइबर भी पाया जाता है।

लौंग के प्रकार

लौंग के दो प्रकार की होते हैं, पहली तेज सुगंध वाली और दूसरी नीले रंग की। नीले रंग की लौंग का तेल मशीनों से निकाला जाता है। इस तेल की महक तेज होती है और स्वाद में यह साधारण लौंग से तीखी होती है। लौंग के तेल को औषधि के रूप में इस्‍तेमाल किया जाता है। इसका तेल त्वचा पर लगाने से कीड़े मर जाते हैं और दांत में लगाने से दांत दर्द में आराम मिलता है। इस लेख के जरिए हम आपको बताते हैं लौंग के फायदों के बारे में।

लौंग के फायदे-

कैंसर

शोधकर्ताओं का मानना है कि लौंग के इस्तेमाल से फेफड़े के कैंसर और त्वचा के कैंसर को रोकने में काफी मदद मिल सकती है। इसमें मौजूद युजेनॉल नामक तत्व इस दिशा में काफी सहायक है।

दर्दनाशक गुण

लौंग एक बेहतरीन नैचुरल पेनकिलर है। इसमें मौजूद यूजेनॉल ऑयल दांतों के दर्द से आराम दिलाने में बहुत लाभदायक है। दांतो में कितना भी दर्द क्यों न हो, लौंग के तेल को उनपर लगाने से दर्द छूमंतर हो जाता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल विशेषता होती है जिस वजह से अब इसका इस्तेमाल कई तरह के टूथपेस्ट, माउथवाश और क्रीम बनाने में किया जाता है।

पाचन में फायदेमंद

भोजन में लौंग का इस्तेमाल कई पाचन संबंधी समस्याओं में आराम पहुंचाता है। इसमें मौजूद तत्व अपच, उल्टी गैस्ट्रिक, डायरिया आदि समस्याओं से आराम दिलाने में मददगार हैं।

बेहतरीन एंटीसेप्टिक

लौंग व इसके तेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जिससे फंगल संक्रमण, कटने, जलने, घाव हो जाने या त्वचा संबंधी अन्य समस्याओं के उपचार में इसका इस्तेमाल किया जाता है। लौंग के तेल को कभी भी सीधे त्वचा पर न लगाकर किसी तेल में मिलाकर लगाना चाहिए।

श्वास संबंधी रोगों में आराम

लौंग के तेल का अरोमा इतना सशक्त होता है कि इसे सूंघने से जुकाम, कफ, दमा, ब्रोंकाइटिस, साइनसाइटिस आदि समस्याओं में तुरंत आराम मिल जाता है।

गठिया में आराम

गठिया रोग में जोड़ों में होने वाले दर्द व सूजन से आराम के लिए भी लौंग बहुत फायदेमंद है। इसमें फ्लेवोनॉयड्स अधिक मात्रा में पाया जाता है। कई अरोमा एक्सपर्ट गठिया के उपचार के लिए लौंग के तेल की मालिश को महत्त्व  देते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में

इतना ही नहीं, लौंग का सेवन शरीर की प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाता है और रक्त शुद्ध करता है। इसका इस्तेमाल मलेरिया, हैजा जैसे रोगों के उपचार के लिए दवाओं में किया जाता है। डायबिटीज में लौंग के सेवन से ग्लूकोज का स्तर कम होता है। लौंग का तेल पेन किलर के अलावा मच्छरों को भी दूर भगाने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है।  लौंग कफ-पित्त नाशक होती है।

अन्य फायदे-

  • पाचन क्रिया को भी सीधी सीधी प्रभावित करती है लौंग।
  • लौंग के सेवन से भूख बढ़ती है, इससे पाचक रसों का स्राव बढ़ता है।
  • मितली आने और प्यास लगने पर लौंग का सेवन करना चाहिए।
  • यदि पेट में कीड़े हैं तो खाने में लौंग का सेवन राहत देता है।
  • लौंग को पीसकर मिश्री की चाशनी या शहद के साथ लेना भी लाभकारी है।
  • लौंग खाने से शरीर में श्‍वेत रक्‍त कण बढ़ते हैं, जिससे शरीर मजबूत होता है।
  • दमा रोग के इलाज में भी लौंग बहुत फायदेमंद है।
  • पेट में गैस होने पर एक कप उबलते हुए पानी में दो लौंग पीसकर डालें। उसके बाद पानी ठंडा होने के बाद पी लीजिए, पेट की गैस खत्‍म हो जाएगी।
  • दांतों में दर्द होने पर नींबू के रस में दो से तीन लौंग को घिसकर लगा लीजिए, दांत दर्द में राहत मिलेगी।
  • लौंग को हल्का भूनकर चबाने से मुंह की दुर्गंध खत्‍म हो जाती है।
  • मुंह में छाले होने पर लौंग चबाने से फायदा होता है।
  • गर्दन में दर्द या फिर गले में सूजन होने पर लौंग को सरसों के तेल के साथ मालिश करने पर दर्द खत्‍म हो जाता है।
  • लौंग पीसकर गर्म पानी के साथ खाने से जुकाम और बुखार ठीक होता है।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply