ये चाय किडनी की पथरी, लिवर को साफ़ और कैंसर सेल को ख़त्म कर सकती है

1

अदरक में आपको स्वस्थ रखने की जबरदस्त शक्ति होती है। अदरक में बहुत सारे विटामिन्स के साथ-साथ मैग्नीज और कॉपर भी पाए जाते हैं जिनकी शरीर को सुचारु रूप से चलाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है।अदरक का इस्तेमाल बहुत समय से कई बीमारियों के लिए किया जाता रहा है , अदरक भूख बढ़ाने, रोग प्रतिरोधक शक्ति, हृदय रोग, दमा, दर्द दूर करने के लिए और बहुत सी बीमारियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
एक कप गरम अदरक की चाय सर्दी जुखाम भगाने के लिए किसी भी और दवा या औषधि से कहीं ज़यादा फायदेमंद होती है |अदरक की चाय के और बहुत से लाभ हैं।

अदरक की चाय बनाने की विधि

सामग्री:
• 1 बड़ा चम्मच organic शहद
• 1/4 छोटा चम्मच पिसी हुई हल्दी
• 1/4 छोटा चम्मच पिसा हुआ अदरक
• 1 कप पानी
• 1/4 कप नारियल का दूध

विधि

अदरक की चाय बनाने में बहुत ही आसान है | सबसे पहले पानी गरम कर लें इस में अदरक और हल्दी डाल कर 7-10 मिनट तक उबालें , उबलने के बाद ढूध और शहद मिला कर चाय को कप में निकाल लें |

अदरक की चाय पीने के फायदे

  1. अदरक में कैंसर जैसी भयानक बीमारी से शरीर को बचाए रखने का गुण होता है। यह कैंसर पैदा करने वाले सेल्स को खत्म करता है। एक शोध के हिसाब से अदरक स्तन कैंसर पैदा करने वाले सेल को बढ़ने से रोकता है।
  2. यह आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाती है, जिसके कारण भी आप शीतजनित बीमारियों से बचे रहते हैं। सर्दी के कारण होने वाले सिरदर्द के लिए अदरक की चाय एक बेहतरीन इलाज है।
  3. अगर आपको भूख नहीं लगती, तो अदरक वाली चाय पीना आपके लिए लाभप्रद है। अदरक भूख बढ़ाने में सहायक होता है। प्रतिदिन इसका सेवन आपको नियमित तौर पर भूख लगने और पाचन को सही करने में मदद करेगा।
  4. यह आपके रक्तचाप को सामान्य करने में भी सहायक है, साथ ही पाचन तंत्र को बेहतर कार्य करने के लिए भी प्रेरित करती है। यह वात, पित्त और कफ जैसे दोषों को दूर करने में मददगार है।
  5. अदरक सर्दी जुखाम फ़ैलाने वाले वायरस को रोकने के लिए एक बहुत ही प्रभावशाली औषधि है।
  6. अदरक के गर्मी पैदा करने वाले गुण शरीर में खून के बहाव, ऑक्सीजन ,विटामिन्स और मिनरल्स के बहाव को बढ़ाते हैं |
  7. अदरक दर्द , ख़राब गला, सर्दी जुखाम और सर दर्द में राहत दिलाता है |
  8. अदरक स्ट्रोक के खतरे को भी कम करता है।
SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

1 COMMENT

Leave a Reply