लंबे, घने, काले बाल के लिए कौन सा तेल लगाएं

0

घने, लंबे बाल आजकल की भागमभाग में एक सपने की तरह हैं। ऐसा सपना, जिसे पूरा करने में खूब मेहनत है। जरा-सी लापरवाही हुई नहीं कि बाल झड़ने लगते हैं। अक्‍सर बाल झड़ने के पीछे कई कारण होते हैं, पर मां-दादी-नानी तो एक ही डांट लगाती हैं कि तेल न लगाने से बाल खराब हो रहे हैं। तो क्या वास्तव में तेल आपके बालों के लिए इतना जरूरी है? तेल कितना जरूरी है आपके बालों के लिए, बता रही हैं आरती मिश्रा

बचपन में आपकी मां ने आपके बालों में खूब तेल लगाया होगा। बाल धोने के अगले ही दिन तेल से सिर की खूब मालिश की जाती होगी। उस समय को याद करेंगी तो ये भी याद आएगा कि बचपन में आपके बाल आज जैसे टूटते भी नहीं थे। काले बालों की लंबी-लंबी चोटियां बनाए बचपन में आप इतराती फिरती होंगी। पर क्या सच में तेल आपके बालों के लिए इतना फायदेमंद है? क्या कंडीशनर या दूसरे उत्पाद तेल के पोषक तत्वों की भरपाई कर देते हैं?

दरअसल, तेल की मालिश आपके सिर के लिए उतनी ही जरूरी है, जितनी कि बालों की सफाई। फिर चाहे तेल कोई भी हो- सरसों, नारियल, बादाम, जैतून, जोजोबा या टी ट्री ऑयल। सभी तेल के अलग-अलग गुण होते हैं। सिर में तेल की मालिश से वहां रक्त संचार तेज होता है और आपके बालों को जड़ से पोषक तत्व मिलते हैं। अगर हर दिन संभव न हो तो कोशिश यह होनी चाहिए कि आप सप्ताह में कम-से-कम तीन दिन सिर में तेल जरूर लगाएं। रात भर के लिए तेल को बालों में लगा छोड़ दें। सुबह शैंपू करने से पहले गर्म पानी में तौलिये को डुबोकर उसे निचोड़ लें और तौलिये को आधे घंटे सिर में लपेटकर रखें। तेल बाल की जड़ों तक पहुंचेगा और आपको मिलेगा मजबूत और लंबे बालों का उपहार। पर सिर्फ तेल लगाने मात्र से ही काले-घने बालों की तमन्ना पूरी नहीं होगी। आपको पोषक तत्वों से भरपूर आहार भी लेना होगा।

डॉंक्टरों का भी मानना है कि तेल मालिश से सिर में रक्त का संचार सही तरीके से होता है और बालों की जड़ों से रूखापन समाप्त होता है। इससे बाल मजबूत होते हैं और दिन भर की थकावट और तनाव कम करने में सहायक होते हैं। तेल मालिश से आपके बाल धूप के खराब असर से भी बचे रहते हैं। दरअसल, बालों में तेल लगाने का उन पर कई तरीके से प्रभाव पड़ता है। इससे बाल जड़ से मजबूत होते हैं, बालों का रूखापन दूर होता है और साथ ही बाल बीच से टूटते भी कम हैं। बालों में तेल लगाने से उन पर एक परत बन जाती हैं। तेल की यह परत उस वक्त बालों के काम आती है, जब हम बालों की स्टाइलिंग के लिए हेयर ड्रायर जैसे तरह-तरह के उपकरणों का इस्तेमाल करते हैं। मसाज करने की पूरी प्रक्रिया भी आपके बाल और सिर के लिए फायदेमंद है। इन तेलों को भी आजमाएं

सरसों, नारियल और आंवले का तेल तो आमतौर पर सभी घरों में मिल जाते हैं। पर इनके अलावा कुछ और तेल भी आप आजमा सकती हैं:

बादाम के तेल से मालिश करने से बालों को कई पोषक तत्व मिलते हैं और वे मजबूत भी होते हैं।
जोजोबा ऑयल बालों को नमी प्रदान करने का काम करता है।
लैवेंडर के तेल में काफी खुशबू होती है। यह डैंड्रफ को हटाने में मददगार है और बालों का टूटना कम करता है।
रोजमेरी का तेल काफी खुशबू वाला होता है और यह सिर में जलन, खारिश आदि को कम करता है।
टी ट्री ऑयल बैक्टीरिया और फंगस की समस्या को दूर करता है। इसे दूसरे तेलों के साथ मिलाकर भी प्रयोग किया जाता है।
जोजोबा का तेल बालों को झड़ने से रोकने में मददगार होता है।
ऑलिव ऑयल लगाने से डीटीएच हार्मोस का बनना रुकता है, जिससे बाल झड़ने की समस्या कम होती है।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

ये नहीं होता ऑयलिंग से
तेल लगाने से बालों का झड़ना नहीं रुकता, क्योंकि बाल झड़ने के पीछे कई तरह के कारण हो सकते हैं। सिर्फ तेल न लगाने से बालों का झड़ना शुरू नहीं होता।

जैसे बाल वैसा ही तेल
सबसे पहले आपको अपने बालों की प्रकृति से वाकिफ होना होगा, तभी आप यह चुनाव कर सकेंगी कि कौन-सा तेल आपके लिए उपयुक्त है।

जोजोबा के तेल से बाल मुलायम बनते हैं। रूखे बाल वालों को विशेषज्ञ यह तेल लगाने की सलाह देते हैं।
जैतून का तेल हर तरह के बालों के लिए उपयुक्त है। यह बालों को मजबूत बनाता है।
नारियल के तेल में मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैल्शियम व आयरन भरपूर मात्रा में होता है। यह रूखे बालों के लिए काफी फायदेमंद है।
तुलसी का तेल तैलीय बालों के लिए काफी अच्छा है। इसे नियमित लगाएं, इससे बाल तेजी से लंबे होते हैं।

क्या करता है तेल
तेल कंडीशनर का काम करता है। जब तेल लगाएं, उसे बालों में कम से कम 8 घंटे तक लगाकर रखें।
मसाज करने से दिमाग रिलैक्स होता है और बाल मुलायम होते हैं।
तेल आपके बालों को लंबा नहीं करता। यह केवल जड़ों को रूखेपन से बचाता है। अगर बाल स्वस्थ होंगे, तभी लंबे होंगे। इसके लिए आपको खानपान भी अच्छा रखना होगा।

आयुर्वेद में तेल
आयुर्वेद में यों तो कई प्रकार के तेलों का जिक्र किया गया है, पर आयुर्वेद के मुताबिक कुछ महत्वपूर्ण तेल ये हैं:

बादाम का तेल
इसमें विटामिन ई होता है और इससे बाल तेजी से बढ़ते हैं।

आंवले का तेल
नियमित रूप से आंवले का तेल लगाने से बालों का झड़ना कम हो जाता है।

भृंगराज का तेल
बाल जल्दी बढ़ते हैं और साथ ही गंजेपन को दूर करने में मददगार है।

ब्राह्मी का तेल
इसे जड़ों में लगाने से डैंड्रफ नहीं होता। इस मौसम में यह तेल आपको लगाना चाहिए।

इन्हें मिलाएं और लगाएं
ऑलिव ऑयल, नारियल तेल, अरंडी का तेल और बादाम के तेल को मिलाकर नियमित रूप से लगाएं। ये आपके बालों को सभी तरह के पोषक तत्व प्रदान करेगा। इस मिश्रण को तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखें कि और सभी तेल की मात्रा समान होनी चाहिए, पर अरंडी का तेल कम मात्रा में डालें। जैसे अगर आप सभी तेलों को एक-एक कप ले रही हैं, तो अरंडी का तेल आधा कप ही लें। आप चाहें तो यह मिश्रण तैयार करके भी रख सकती हैं। कई माह तक आप तेलों के इस मिश्रण को इस्तेमाल में ला सकती हैं। इस मिश्रण को लगाने से बाल झड़ने कम होते हैं, सफेद होना रुक जाते हैं और डैंड्रफ की समस्या से भी निजात मिलती है। आप इस मिश्रण को ठंडा ही लगा सकती हैं।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply