एड़ी दर्द (Heel Pain) के कारण और 11 घरेलु उपाय, जरूर पढ़े

0

एड़ी में दर्द बहुत कष्टकारी होता हैं। और ये किसी भी आयु के व्यक्ति और औरत या मर्द सभी को हो सकता हैं। एड़ी के दर्द होने के बहुत से कारण हो सकते हैं। ऊंची एड़ी के सैंडल, गलत बूट, गलत जूती या हड्डी का बढ़ना या कोई पुरानी चोट भी इसका एक कारण हो सकता हैं।

आज हम आपको बताएँगे इस दर्द से छुटकारा पाने की युक्ति।

एड़ी दर्द के मुख्य कारण

  1. ज्यादा टाइट या कसक वाले कपड़े पहनना।
  2. गिर जाने की वजह से।
  3. पैर का अचानक से मुड़ना।
  4. अधिक नींद की गोलियां खाना।
  5. उंचे जूते व सेण्डल पहनना।
  6. कंकर व पत्थर का लगना।
  7. उम्र के साथ मांस का कम होना।
  8. हड्डी का बढ़ना।
  9. अधिक समय तक खड़े रहकर काम करना।
  10. पोषक तत्वों को न खाना।
  11. मधुमेह व मोटापा।
  12. हार्मोन से संबंधित दवाइयां अधिक लेना।
  13. अधिक सोना व खाना ।
  14. कमर व पैरों के साथ पेट को किसी भी तरह का तनाव न देना आदि।

एड़ी दर्द के अन्य कारण-

कूल्हों में या घुटनों में या पैर में चोट

अगर आपके शरीर के किसी भी  ऐसे हिस्से को चोट लग जाती है। जिसका आपके चलने फिरने पर असर होता है तो आपके लिए यह जाने लेना जरुरी है कि ऐसे में एक हिस्से के चोटग्रस्त हो जाने पर आपके दूसरे हिस्से पर अधिक दबाव पड़ता है। जैसे अगर आपके एक पैर के घुटने में दर्द है तो आप सही  से चलने के लिए अपने दुसरे वाले घुटने पर अधिक दबाव महसूस करते है या डालते है ऐसे में इस से भी आपको दर्द होता है और लगातार ऐसा होने पर समस्या बड़ी हो सकती  है।

आर्थराइटिस (Arthritis)

पैर की अंगुलियों की हड्डियां काफी छोटी होती हैं। आर्थराइटिस होने पर इनमें दर्द अधिक होता है जिससे चलने-फिरने में दिक्कत होती है। ऐसे में पैर व एडिय़ों की चोट की बिल्कुल अनदेखी न करें। वजन नियंत्रित रखें, जूते-चप्पल खरीदते समय गुणवत्ता का खयाल रखें। अधिक टाइट या लूज फुटवियर न पहनें।

डायबिटीज (Diabetes)

पैरों व एड़ी की तकलीफ में डायबिटीज भी बड़ा खतरा है। इन मरीजों को पैर या एड़ी में चोट/ जलने/ कटने पर फौरन डॉक्टर को दिखाना चाहिए। इसके अलावा अधिक ठंडे या गर्म पानी का प्रयोग पैरों और एडिय़ों पर करने से बचें क्योंकि डायबिटीज में इन अंगों में संवदेना कम हो जाती है जिससे जलने या सूजन की आशंका रहती है।

एड़ी के दर्द से निजात पाने के वैदिक उपाय

जितना हो सके आप आरामदायक जूते व चप्पल पहनें। स्पोर्टस जूते भी आप पहन सकते हो।

लेप का प्रयोग

यदि दर्द की वजह से चलना फिरना बंद हो गया हो तो सरसों के तेल में हल्दी को पकाकर उसमें नींबू, प्याज और नमक डालकर पेस्ट बनाएं और रात को सोने से पहले इसे एड़ियों पर लगाएं।

ठंडा व गर्म पानी

एड़ी के दर्द  में आप अपने सिर को गीला करें और किसी स्टूल पर बैठकर ठंडे व गर्म पानी में पैरों को बदल-बदल कर रखें। ठंडे पानी में तीन मिनट और गर्म पानी में 5 मिनट तक पैरों को रखें। ये उपाय सिर्फ गर्मी के मौसम में करे।

एलोवेरा

ऐलोवरा को छीलकर इसका 50 ग्राम भाग खाली पेट खाएं।

एलोवेरा, अदरक और काला तिल

एलोवेरा, अदरक और काला तिल को मिलाकर गर्म करे और इसको एड़ी पर लगाए।

अश्वगंधा का प्रयोग

 एड़ी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए 1 चम्मच दूध के साथ 1 चम्मच अश्वगंधा का चूर्ण मिलाकर सेवन करें।

अदरक और पोदीना का प्रयोग

एड़ियों के दर्द से मुक्ति पाने के लिए अपने भोजन में अदरक का इस्तेमाल अधिक से अधिक करें। पिण्ड खजूर को पोदीना के साथ मिलाकर चटनी बनाकर सेवन करें।

भोजन में इन चीजों को शामिल करें

अपने भोजन में आंवला, सेव, टमाटर, पत्तागोभी, कच्चा पपीता, आलू, ककड़ी और तोरई को शामिल करें। इसके साथ आप गुग्गुल का भी इस्तेमाल कर सकते हो।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

कलौंजी, अजवायन, मेथी और ईसबगोल

एक चम्मच कलौंजी, एक चम्मच मेथी, एक चम्मच ईसबगोल और एक चम्मच अजवायन को पीस कर चूर्ण बना लें और सुबह एक चम्मच खाली पेट इसका सेवन करें। कुछ दिनों तक इस उपाय को करने से फायदा मिलता है।

साधारण कसरत

पैरों की उंगलियों को प्वाइंट करने जैसी साधारण कसरत बहुत प्रभावी सिद्ध होती है।सिर्फ अपनी टांग उठाएं और अपने पैरों को तब तक घुमाएं जब तक इनकी उंगलियां नीचे की ओर प्वाइंट न करें। थोड़ी देर रुकें और रिलैक्स करें।अब ऐसा ही दूसरी टांग के साथ भी करें। इस क्रिया से टांगों की मांसपेशियों में खिंचाव पैदा होता है और एड़ी के दर्द से राहत मिलती है।

पैर के नीचे एक गेंद को घुमाना (Rotating the ball under foot)

एक अन्य उपाय है पैर के नीचे एक गेंद को घुमाना। यह आपके पांव को एक बेहतर मसाज देता है। एक टैनिस या एंटी स्ट्रैस बॉल लें और हल्के दबाव के साथ पैर के नीचे इसे घुमाएं। 2 मिनट के बाद ऐसा ही दूसरे पैर के साथ भी करें।इससे आपको एकदम उठने वाली ऐंठन तथा एड़ी के दर्द इत्यादि से राहत मिलती है।

एक्युप्रैशर विधि

एक्युप्रैशर विधि से भी एड़ी में खून का दौरा बढऩे से दर्द में राहत मिलती है।

अपील—

दोस्तों  यदि आपको  पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस post से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा.

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply