आँखों की रोशनी बढ़ाने के सबसे असरदार घरेलु उपाय

1

आंखों का कमजोर होना भोजन में विटामिन की कमी, तथा स्मार्टफोन, टीवी, कम्प्यूटर आदि से निकलने वाली हानिकारक किरणों के कारण भी हो सकता हैं। आंखों की रोशनी बढ़ाने के बारे में तो हर कोई सोचता हैं और कई लोग तो उपाय भी करते है लेकिन सफल नहीं हो पाते। आज हमआपको बता रहें हैं ऐसे आयुर्वेदिक रामबाण उपाय जिनको आजमा कर आप अपनी आंखों को सौ साल तक स्वस्थ रख सकते हैं तो आइए जानते हैं।

1. रात को सोने से पूर्व पैरों के तलवों में और नाभि में नारियल तेल या सरसों का तेल लगाने से आंखों से पानी आने की समस्या दूर होती है और नेत्र ज्योति बढ़ती हैं।

2. सरसों का तेल आंखों की रोशनी बढ़ाने में सहायक होता है इसके लिए प्रतिदिन नहाने से 30 मिनट पहले एक कटोरी में सरसों का तेल डाल दे और उसमें दोनों पैरो के अंगूठे डालकर 10 मिनट तक रखें। ऐसा करने पर आंखों की रोशनी बढ़ेगी।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

3. अगर आंखों से कम या धुंधला दिखाई देता हैं तो प्रतिदिन आंवला का सेवन करना चाहिए। आंवला में विटामिन सीभरपूर मात्रा में होता हैं जो आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता हैं। आयुर्वेद के अनुसार रोजाना आंवला जूस का सेवन और आंखों का व्यायाम किया जाए तो आंखों का चश्मा 100 प्रतिशत उतारा जा सकता हैं।

4. प्रतिदिन दो महीने तक गाजर और टमाटर जूस का सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती हैं। इसके लिए एक गिलास गाजर के जूस में एक टमाटर का जूस मिला कर पीना चाहिए।

5. अगर प्रारम्भिक अवस्था का मोतियाबिंद हैं तो अदरक का रस, सफेद प्याज का रस और शहद तीनो को मिलाकर एक-एक बूंद आंखों में डालने से मोतियाबिंद ठीक हो जाता हैं, और नेत्र ज्योति बढ़ती है।

दोस्तों अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करियेगा…

Source: www.indianamo.com

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

1 COMMENT

Leave a Reply