तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

2

गर्मी के मौसम का आकर्षक और आवश्यक फल है तरबूज। आवश्यक इसलिए क्योंकि यह शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है । इस मौसम में हमें वही फल ज्यादा खाने चाहिए जो शरीर में पानी की आपूर्ति भी करते रहें । तरबूज रक्तचाप को संतुलित रखता है और कई बीमारियाँ दूर करता है । इसके और भी फायदे हैं जैसे : खाना खाने के उपरांत तरबूज का रस पीने से भोजन शीघ्र पच जाता है। इससे नींद भी अच्छी आती है। इसके रस से लू लगने का अंदेशा भी नहीं रहता। मोटापा कम करने वालों के लिए यह उत्तम आहार है।

पोलियो रोगियों को तरबूज का सेवन करना बहुत लाभकारी रहता है, क्योंकि यह खून को बढ़ाता है और उसे साफ भी करता है। त्वचा रोगों के लिए यह फायदेमंद है। तपती गर्मी में जब सिरदर्द होने लगे तो तरबूज के आधा गिलास रस को पानी में मिलाकर पीना चाहिए।

दिल को स्वस्थ रखता है

तरबूज में कई बायोएक्टिव कम्पाउन्ड जैसे सिट्रुलीन नाम का एमिनो एसिड होता है जो मेटाबॉलाइज़्ड होकर आर्जनीन में बदल जाता है। आर्जनीन का इस्तेमाल नाइट्रिक ऑक्साइड नामक यौगिक के बनने में होता है जो हृदय के सही तरह से काम करने में अहम् भूमिका निभाता है। यह रक्त में कोलेस्ट्रोल के लेवल को कम करके हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। इसमें उच्च मात्रा में पोटैशियम भी होता है जो हाइपरटेनशन को नियंत्रित करके हृदय रोग होने के खतरे को कम करता है।

- heart 600x400 - तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

वज़न घटाने में मदद करता है

अगर वज़न घटाने के लिए डायटिंग कर रहे हैं तो दिल खोलकर तरबूज का लुत्फ़ उठाइए। क्योंकि इसमें पानी के साथ-साथ फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं जिससे पेट देर तक संतृप्त भी रहता है और कमजोरी भी महसूस नहीं होती है।

- Weight Loss - तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

प्रतिरक्षी क्षमता  को उन्नत करता है

तरबूज जो विटामिन ए, सी, बी-6 और मिनरल होते हैं वे प्रतिरक्षी क्षमता को उन्नत करने में मदद करते हैं। इससे शरीर अनेक प्रकार के रोगों से स्वयं ही लड़ पाता है।

बुद्धि को तेज करता है

तरबूज में जो विटामिन बी-6 होता है वह बुद्धि को प्रखर करने में सहायता करता है। जो स्टूडेंट्स अपना ज़्यादातर समय पढ़ने में लगाते हैं उनके लिए यह उपयोगी होता है।

- fast brain - तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

कैंसर होने की संभवना को कम करता है

तरबूज में ल्यूटीन, लाइकोपेन, बीटा-कैरोटीन, क्रीपटोजैक्थीन होते हैं जो फ्री-रैडिकल्स से सेलुलर डी.एन.ए. को होने वाले क्षति से बचाकर कैंसर होने के संभावना को कम करने में मदद करता है।

किडनी को स्वस्थ रखता है

तरबूज नैचरल डिटॉक्सफाईंग एजेन्ट का काम करता है। इसमें पानी और मिनरल उच्च मात्रा में होता है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालकर किडनी को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

यौन शक्ति को बढ़ाता है

तरबूज वियाग्रा दवा जैसा काम करता है, इसलिए जिन्हें इरेक्टाइल डिसफंक्शन जैसी समस्या होती है उनके लिए ये मददगार साबित होता है।

- how to increase sex power - तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

आँखों को स्वस्थ रखता है

तरबूज में जो बीटा कैरोटीन होता है उसको शरीर विटामिन ए में बदल देता है। जो आँखों को स्वस्थ रखने के लिए बहुत ज़रूरी होता है। साथ ही बढ़ते उम्र में होने वाली रतौंधी  या मैक्युलर डिजनरेशन के होने की संभावना को रोकने में भी मदद करता है।

- good for your eyes - तरबूज में छिपा है कई बीमारियों का इलाज

पेशाब में जलन

पेशाब में जलन हो तो ओस या बर्फ में रखे हुए तरबूज का रस निकालकर सुबह शकर मिलाकर पीने से लाभ होता है।

सौंदर्य निखरता है

गर्मी में नित्य तरबूज का ठंडा-ठंडा शरबत पीने से शरीर को शीतलता तो मिलती ही है, चेहरे पर गुलाबी-गुलाबी आभा भी दमकने लगती है। इसके लाल गूदेदार छिल्कों को हाथ-पैर, गर्दन व चेहरे पर रगड़ने से सौंदर्य निखरता है।

सूखी खाँसी

सूखी खाँसी में तरबूज खाने से खाँसी का बार-बार चलना बंद होता है।

खाना खाने के उपरांत तरबूज का रस पीने से भोजन शीघ्र पच जाता है। इससे नींद भी अच्छी आती है। इसके रस से लू लगने का अंदेशा भी नहीं रहता।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...