शिलाजीत का सेवन कैसे करें

0

पतंजलि शिलाजीत क्या है? – patanjali shilajit

आज शिलाजीत क्या है दोस्तों अगर आपको शिलाजीत के गुणों के बारे में पता नहीं होगा तो आज हम आपको बताएँगे.

पतंजलि कैप्सूल में शिलाजीत के इस्तमाल करके बनाया गया है और इसके अन्य अंग्रेजी दवा की तरह कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है अगर इसका इस्तमाल सही तरीके सी किया जाये.

बाबा रामदेव जी के पतंजलि शिलाजीत कैप्सूल का इस्तमाल करके आप अपने शरीर की ई हुई कुछ कमियों को पूरा कर सकते हो उसके बारेमे जानते है

पतंजलि शिलाजीत का सेवन कैसे करे ? – patanjali shilajit  capsule ka upyog kaise kare hindi me

कई लोग परेशान रहते है की इसका सेवन कब करना चाहिए और शिलाजीत का सेवन कैसे करे जानते है.

जब भी आप  शिलाजीत का सेवन करेंगे तब इस दौरान आपको सिगरेट,मांसाहार, शराब और मसालेदार या खटाई युक्त खाना नहीं करना चाहिए.

इसके सेवन करने के समय रात में ज्यादा देर तक नहीं जागना चाहिए इसके साथ ही दिन में नहीं सोना चाहिए.

पतंजलि शिलाजीत कैप्सूल का सेवन दिन में 1 से 2 कैप्सूल तक रोज़ एक बार दूध के साथ लेना चाहिए.

इसके लिए आपको फिजिशियन से सलाह जरुर लेनी है.

दिन में १ या २ कैप्सूल का सेवन करना उचित है इसके ऊपर आपको शिलाजीत के नुकसान हो सकता है.

👉यह भी पढ़े : असली शिलाजीत की पहचान कैसे करे – Asli Shilajeet ki pehchaan kaise kare in hindi

पतंजलि शिलाजीत कैप्सूल के फायदे – Patanjali Shilajit capsule Benefits In Hindi

  1. शिलाजीत का सेवन करने से आपके शरीर को पूरी तरह से ऊर्जा मिलती है, अगर आप से*क्स ज्यादा देर तक नहीं कर सकते हो तो आपने शिलाजीत का सेवन करना चाहिए | शिलाजीत का सेवन करने से यौ*न शक्ति बढ़ जाती है, शिलाजीत का सेवन करने के बाद अगर आप से*क्स करोगे तो आप आपके पार्टनर को पूरी तरह से सं*तुष्ट कर सकोगे |
  2. हर किसी को लगता है कि उसका दिमाग बहुत ही तेज होना चाहिए, शिलाजीत का सेवन करने से दिमाग बहुत ही तेज हो जाता है | शिलाजीत का अगर आप हर रोज सेवन करोगे तो आपकी स्मरण-शक्ति भी बढ़ जाएगी, शिलाजीत का सेवन करने से आपके दिमाग का पोषण पूरी तरह से होता है, जिससे आप तनाव से हमेशा दूर रहते हो |
  3. बहुत सारे लोगों को पेशाब करते वक्त विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता है, अगर आप हर रोज गुनगुने दूध में शिलाजीत डालकर इस दूध का सेवन करोगे तो आपके मुत्रविकार भी खत्म हो जायेंगे , शिलाजीत मूत्र में जलन और पथरी से छुटकारा दिलाता हें |
  4. बहुत सारे लोग हाई कोलेस्ट्रॉल से हमेशा तनाव में रहते हैं, अगर आपको भी कोलेस्ट्रॉल है तो आपने हर रोज शिलाजीत का सेवन करना चाहिए | शिलाजीत का सेवन करने से उच्च रक्त अवस्था विकार कंट्रोल में आ जाता है, शिलाजीत खून को स्वस्थ रखता हें | शिलाजीत इन रोगों से मुक्ति दिलाने में अत्यंत महत्वपूर्ण होता है |
  5. बहुत सारे लोगों का कहना होता है कि शिलाजीत प्रकृति खराब कर देता है, दोस्तों हर किसी का शरीर विभिन्न प्रकार का होता है | इसलिए शिलाजीत का सेवन करने से पहले आपने आपके फैमिली डॉक्टर की राय जरूर लेनी चाहिए, शिलाजीत का सेवन करने से अगर आपको किसी साइड इफेक्ट का सामना करना पड़ता है तो आपने शिलाजीत का सेवन करना बंद कर देना चाहिए |

पतंजलि शिलाजीत कैप्सूल की कीमत (Patanjali Shilajit Capsule Price)

Rs. 85 / 20 कैप्सूल

पतंजलि शिलाजीत सावधनियाँ/ साइड-इफेक्ट्स – Patanjali Shilajit ke Side effects

शिलाजीत के सेवन के समय विदाही (जलन करने वाले भोजन) और भारी भोजन नहीं करना चाहिए।

कुल्थी का सेवन भी नहीं करना चाहिए। आयुर्वेद के कुछ व्याख्याकार ने तो यहाँ तक कहा है जो लोग शिलाजीत का सेवन कर रहे हो उन्हें एक वर्ष तक कुलथी का सेवन नहीं करना चाहिए।

  1. ग*र्भ*वती महिलाओं में इस दवा का अध्ययन नहीं किया गया है। इसमें छेदन, मेदोहर, गुण हैं। इसलिए, ग*र्भ*वती महिलाओं को इस दवा का उपयोग न करने की सलाह दी जाती है।
  2. शिलाजीत उन लोगों को नहीं लेना चाहिए जिनका यूरिक एसिड बढ़ा हुआ है। जिनमें यूरिक एसिड की पथरी हो, गठिया हो उन्हें भी इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  3. शिलाजीत को अधिक पित्त में भी इसका सेवन सावधानी से किया जाना चाहिए।
  4. संतुलित और पौष्टिक आहार का सेवन करें।
  5. उच्च रक्तचाप में इसे कम मात्रा में लिया जाना चाहिए।
  6. इसे आप एलोपैथी की दवा के सेवन के दौरान भी ले सकते हैं।
  7. इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।
  8. खाने में दूध, फलों और सब्जियां को शामिल करें।
  9. मादक पदार्थों, शराब, चाय और कॉफी का सेवन नहीं करें।
  10. पानी पर्याप्त मात्रा में पियें।
  11. प्राणायाम और व्यायाम करें।
  12. इस दवा के सेवन के दौरान ब्लड शुगर लेवल की बराबर जांच करते रहें।
  13. इसे ज्यादा मात्रा में न लें।
  14. निर्धारित मात्रा में लेने से इसका कोई साइड-इफेक्ट नहीं है।
  15. अच्छे परिणाम के लिए दवा को तीन महीने तक प्रयोग करें।

👉यह भी पढ़े : शिलाजीत के फायदे व नुकसान – shilajit ke fayde aur nuksan in hindi

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply