पुरुषों में स्वप्नदोष रोकने के आसान घरेलु उपचार

0

रात को सोते समय वीर्य निकल जाने को स्वप्न दोष कहते है । सामान्य रूप से यह परेशानी हर नौजवान पुरुष को हो जाया करती है ।

हालांकि, अगर आपको नियमित रूप से इस समस्‍या का सामना करना पड़ रहा है, तो आपको सचेत होने की जरूरत है। इससे सेहत पर तो असर पड़ता ही है साथ ही मानसिक रूप से भी दबाव काफी बढ़ जाता है। कई पुरुषों को इस बात को लेकर संशय रहता है कि आखिर वे स्‍वप्‍नदोष की इस समस्‍या से कैसे बचें। हालांकि इस बात के कोई पुख्‍ता सबूत नहीं हैं, लेकिन स्‍वप्‍नदोष से थकान, अंडकोष में दर्द, कमजोर स्‍खलन और शीघ्रपतन जैसी समस्‍यायें हो सकती हैं।

night-fall-home-remedies

विशेषज्ञ अभी तक स्‍वप्‍नदोष के कारणों को लेकर आश्‍वस्‍त नहीं हैं। हालांकि, हस्‍तमैथुन और कामुक विचारों को इसके लिए उत्‍तरदायी माना जाता है। कई लोग स्‍वप्‍नदोष से बचने के लिए हस्‍तमैथुन कम करने की सलाह दी जाती है। इसके साथ ही कुछ घरेलू उपाय भी हैं, जिनसे इस समस्‍या को नियंत्रित करने का दावा किया जाता है। कुदरती उपायों का आमतौर पर आपके शरीर पर कोई बुरा असर नहीं होता और इनका असर भी प्रभावी होता है।

महीने में दो या तीन बार स्‍वप्‍न दोष होना सामान्‍य है। लेकिन, अगर यह समस्‍या इससे ज्‍यादा बार होती है, तो कुछ गड़बड़ होने की आशंका है।
शीघ्र पतन को भी स्‍वप्‍नदोष की समस्‍या से जोड़कर देखा जा सकता है।

इसी कड़ी में आज आपको बता रहे हैं स्वपन दोष की बीमारी के बारे में, मगर एक बात ध्यान रखे के ये तभी संभव हो सकता हैं जब आप अपने मन में किन्ही उत्तेजक विचारो के बजाये सतोगुणी विचार रखे, अन्यथा ये उपाय निष्क्रिय हैं।

जामुन

जामुन की गुठली का चूर्ण 4 ग्राम की मात्रा में लेकर शाम के समय लगभग 15 दिनों तक सेवन करते रहने से स्वप्नदोष के अधिक हो जाने के कारण शरीर में कमजोरी आ गई हो तो वह दूर हो जाती है। इस मिश्रण के सेवन करते रहने तक खट्टी चीजों का इस्तेमाल न करें।

जौ

त्रिफला (हरड़, बहेड़ा तथा आंवला) और जौ को रात के समय भिगोकर रख दें। इसके बाद अगले दिन सुबह के समय इसमें थोड़ा सा शहद मिलाकर पी लें। इससे स्वप्नदोष के रोग दूर हो जाते हैं।

इमली

दूध में इमली के बीजों को भिगोकर इमली की निकाली हुई गिरियों में बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर अच्छी तरह से कूट-पीसकर मटर के दाने की तरह गोलियां बनाकर अपने पास रख लें। इसके बाद समान मात्रा में 1-1 गोली कुछ दिनों तक प्रयोग करते रहने से स्वप्नदोष जैसी समस्या समाप्त हो जाती है। इस मिश्रण का सेवन करते रहने तक तले-भूने तथा अधिक मिर्च-मसालों वाले पदार्थों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

धनिया

धनिया व मिश्री को बराबर मात्रा में लेकर बने हुए चूर्ण को 5 ग्राम की मात्रा में लेकर ताजा ठंडे पानी के साथ सुबह के समय रोजाना लगभग एक सप्ताह तक इस्तेमाल करने से रोजाना होने वाला स्वप्नदोष समाप्त हो जाता है तथा पेशाब करने वाली नली में दर्द होना, उपदंश और सूजाक आदि रोगों से छुटकारा मिलता है।

बरगद का दूध

2 बूँद बरगद के पत्तो का दूध बताशे में मिला कर नियमित सेवन करने से स्वपन दोष और वीर्य सम्बंधित अनेक रोग सही होते हैं।

केले

3-4 बूंदें असली शहद की पके केले की फली में डालकर सुबह सूर्योदय से पहले खाने से स्वप्नदोष के साथ अनेक वीर्य संबंधी रोग समाप्त हो जाते हैं और वीर्य भी अधिक मात्रा में गाढ़ा बन जाता है। इस मिश्रण का इस्तेमाल विस्तारपूर्वक करना चाहिए।

त्रिफला

शहद में त्रिफला का चूर्ण मिलाकर खाने से स्वप्नदोष जैसे रोग खत्म हो जाते हैं। लेकिन जिन लोगों का स्वभाव अधिक गर्म रहता हो उन लोगों को शहद की जगह पर मिश्री का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर इसके अलावा चीनी मिला हुआ रस दे दिया जाए तो अधिक लाभ प्राप्त होगा।

देशी फूल

देशी फूल की मुलायम कच्ची पत्तियों को लेकर छाया में सुखा लें। फिर इसमें इसके बराबर मिश्री मिला लें। इन सबको मिलाकर बारीक चूर्ण बना लें और इसे एक कांच की शीशी में डालकर रख दें। इस चूर्ण को 5-6 ग्राम की मात्रा में लेकर ताजे पानी से सुबह-शाम के समय रोजाना सेवन करने से स्वप्नदोष दूर होता है।

गुलाब के फूल

ताजे गुलाब के फूल की 5-6 पंखुड़ियां लेकर उसमें मिश्री को मिलाकर सुबह और शाम के समय चबाकर खा लें। फिर इसके ऊपर गाय का दूध पी लें। इस तरह से रोजाना सेवन करते रहने से स्वप्नदोष का रोग समाप्त हो जाता है।

बादाम

1 पीस बादाम गिरी, थोड़ा सा मक्खन तथा 3-3 ग्राम गिलोय- इन सभी को बराबर की मात्रा में मिलाकर इसमें 7-8 ग्राम शहद मिलाकर एक समान भाग बना लें। इस मिश्रण को 8 से लेकर 10 दिनों तक सुबह और शाम के समय प्रयोग करने से स्वप्नदोष के रोग समाप्त हो जाते हैं।

लहसुन

एक कली लहसुन रात को सोते समय चबाते हुए ताज़े पानी से निगल जाएं। इसके तुरंत बाद कुछ भी नहीं खाना चाहिए। कुछ समय के बाद ही स्वप्नदोष की समस्या समाप्त हो जाएगी।

आंवला

स्वप्नदोष के रोग को दूर करने के लिए 6 ग्राम आंवले के चूर्ण में शहद मिलाकर खा लें। इसके बाद ऊपर से इसमें मिश्री मिलाकर पानी पी लेना चाहिए।

गाय का दूध

लगभग आधा किलो गाय के दूध में 3 छुहारे लेकर उसमें जरूरत के अनुसार मिश्री मिलाकर इसे अच्छी तरह से पका लें। जब दूध केवल आधा रह जाए तो छुहारे की गुठली निकालकर छुहारे को खा लें और उस दूध को पी लें। इस तरह से इस दूध का कुछ दिनों तक सेवन करते रहने से स्वप्नदोष जैसे होने वाले रोग व सभी प्रकार के वीर्य के गिरने वाले रोगों की समस्या समाप्त हो जाती है और शरीर में वीर्य की भी बढ़ोत्तरी होती है।

नोटः- इस उपाय को सदा सर्दी के दिनों में ही करना चाहिए तथा विशेषरुप से कभी भी यह उपाय विद्यार्थियों को नहीं करना चाहिए।

इलायची

आधा ग्राम छोटी इलायची के पीसे हुए दाने, 3 ग्राम सूखे हुए धनिये का चूर्ण और 2 ग्राम कूटी हुई बारीक मिश्री- इन सभी पदार्थों को अच्छी तरह से मिलाकर इसकी समान मात्रा में पुड़िया बना लें। इस मिश्रण को सुबह के समय ताजे पानी के साथ सेवन करते रहें। इसका सेवन करते रहने से स्वप्नदोष के रोग में जल्दी ही लाभ मिलता है।

पीपल की छाल

पीपल की छाल का चूर्ण 3 ग्राम, इलायची का चूर्ण आधा ग्राम और बंग भस्म चौथाई ग्राम- इन चारों को एक साथ मिलाकर नियमित रुप से इस्तेमाल करें। इसका प्रयोग करने से रात को होने वाले स्वप्नदोष खत्म हो जायेंगे।

सेमन की छाल

10 ग्राम सेमन की छाल दूध में पीसकर उसमे मिश्री मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से वीर्यदोष, स्वपनदोष, दिमाग की कमज़ोरी सब दूर होती हैं।

चोबचीनी

आधा चम्मच मिश्री, आधा चम्मच चोबचीनी का चूर्ण तथा आधा चम्मच देशी घी– इन सबको ठीक तरह से मिलाकर सुबह के समय खाली पेट इस्तेमाल करना चाहिए।

नोट :- यह एक मानसिक बीमारी है इसलिए मन को हमेशा पवित्र रखे । और ठंडे पानी से स्नान करे । रात के समय गर्म दूध ना पियें और सोने से पहले पैरो को ठन्डे पानी से अच्छी तरह साफ कर ले । इससे स्वप्न दोष दूर हो जाता है और नींद अच्छी तरह सेआती है |

जरुरी बात :- यह बीमारी शादी के बाद जड़ से ख़त्म हो जाती है । इसके अतिरिक्त महीने में दो से तीन बार हो तो चिंता न करे और यदि इससे ज्यादा हो तो इलाज जरूर करवाना चाहिए|

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply