इस पौधें की पत्ती का रस पीलिया, पथरी, मधुमेह,दस्त और अजीर्ण का जड़ से सफाया करता है

0

छुई मुई का पौधा अपने आप में थोडा अजीब तरह का पौधा है साथ ही छुई मुई का दूसरा नाम लाजवंती भी हैइसके इन दोनों नामों के पीछे भी कारण हैजैसे ही हम इस पौधे को छूते हैं ये खुद को सिकोड़कर छोटे रूप में बदल जाता हैउस समय ऐसा प्रतीत होता है मानो ये हमसे शर्मा रहा होऔर यही कारण है कि इसका नाम लाजवंती पड़ा. 

  • छुई मुई का वानस्पतिक नाम माईमोसा पुदींका भी है जबकि देसी नाम लजोली भी हैइसके फूल गुलाबी रंग के होते हैंजो देखने में बहुत आकर्षक और सुन्दर प्रतीत होते हैं.
  • छुई-मुई के क्षुप (पौधे) छोटे होते हैं। यह भारत में गर्म प्रदेशों में पाया जाता है। इसका पौधे जमीन पर फैला हुआ या थोड़ा सा उठा होता है। इसके 30 से 60 सेमी तक के क्षुप पाये जाते हैं। इसके पत्ते चने के पत्तों के समान होते हैं।

छुई-मुई के फूलों का रंग हल्का बैंगनी होता है और इस फूल के ही ऊपर गुलाबी रंग के 3 से 9 सेमी लंबी फली लगती है जिसमें 3 से 5 बीज होते हैं। बारिश के महीनों में छुई-मुई में फल लगते हैं। छुई-मुई की खासियत है कि इसको छूने से ही यह सिकुड जाती है। इसकी अनेक प्रजातिया होती हैं।

विभिन्न रोगों में प्रयोग

1. मधुमेह

छुई-मुई की जड़ का काढ़ा 100 मिलीलीटर बनाकर रोजाना सुबह-शाम देने से मधुमेह का रोग ठीक होता है।

2. अजीर्ण

छुई-मुई के पत्तों का 30 मिलीलीटर रस निकालकर पिलाने से अजीर्ण नष्ट हो जाता है।

3. पीलिया

छुई-मुई के पत्तों का रस निकालकर पीने से कामला या पीलिया रोग दो हफ्ते में दूर हो जाता है।

4.पथरी

छुई-मुई की 10 मिलीलीटर जड़ का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम पीने से पथरी गलकर निकल जाती है।
लाजवन्ती (छुई-मुई) के पंचांग का काढ़ा बनाकर प्रतिदिन सुबह-शाम पीयें। इसके काढ़े से पथरी घुलकर निकल जाती है तथा मूत्रनलिका पर आई सूजन मिट जाती है।

5. रक्तातिसार (खूनी दस्त)

छुई-मुई की जड़ का चूर्ण 3 ग्राम, दही के साथ रोगी को खिलाने से खूनी दस्त जल्दी बंद होता है।
छुई-मुई की जड़ के 10 ग्राम चूर्ण को 1 गिलास पानी में काढ़ा डालकर बनायें जब थोड़ा सा रह जाये तब बचे काढ़े को सुबह-शाम पिलाने से खूनी दस्त बंद हो जाता है।

6.पेशाब का अधिक आना

छुई-मुई के पत्तों को पानी में पीसकर नाभि के निचले हिस्से में लेप करने से पेशाब का अधिक आना बंद हो जाता है।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply