खांसी-जुकाम से लेकर जोड़ों का दर्द तक ठीक कर सकता है कपूर

0

आपकी कपूर पूजा की जो सामग्री है उसका एक बहुत ही जरूरी हिस्सा होता है, वो है कपूर. लेकिन स्‍वास्‍थ्‍य की दृष्टि से भी यह बहुत फायदेमंद है। कपूर का प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है। कपूर त्‍वचा और मांसपेशियों और ऊतकों में सूजन कम करता है। पुरानी जोड़ों और दर्द से छुटकारा दिलाने के लिए कपूर उपयोगी औषधि है। कपूर का तेल बहुत फायदेमंद है। कपूर का इस्‍तेमाल कई दवाओं में भी किया जाता है। कपूर से कई प्रकार के मरहम बनाये जाते हैं। आइए हम आपको कपूर से होने वाले फायदों के बारे में बताते हैं।

1. सबसे जरूरी चीज है जो पूजा में कपूर इस्तेमाल करते हैं उसे हमेशा किसी ताले वाली जगह में रखिए, क्योंकि कई बार छोटे बच्चों को लगता है ये चीनी की चींज है यानी ये मीठा है और उसे खा लेते हैं और छोटे बच्चों के लिए ये बहुत ही जानलेवा होता है.

2. कपूर को हमेशा बंद करके रखना चाहिए. जब आप कपूर को जलाते हैं तो उसकी जो महक होती है, उसका जो अरोमा होता है उससे छोटे-छोटे कीटाणु, फंगल, वायरस वो सभी नष्ट हो जाते हैं, इसलिए कपूर को पूजा में भी इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि ये एक तरह का नेचुरल एयर प्युरीफायर है.

3. कपूर ऑयल का भी बहुत फायदा है. जो भी आप मसाज ऑयल इस्तेमाल करते हैं, अगर आपके जोड़ों में दर्द है, उसमें थोड़ा सा अगर 2-3 बूंद आप कपूर तेल डाल लें, तो उससे आप देखेंगे आपको दर्द में राहत मिल रही है जो आपको अन्य मसाज तेल से नहीं मिल पाता.

4. एक और इसका बहुत बड़ा फायदा है कि जिनको खांसी, नजला, जुकाम और गले में दर्द हो रहा है, अगर वो अपनी स्टीम में हल्का सा कपूर का तेल डाल लें और उसकी भांप ले तो उससे भी एक तरह का नैचुरल डिकंजेस्टेंट हैं. यानी ये फ्लेम को डीकंजेस्ट करता है.

5. कपूर के तेल का एक और बहुत बड़ा फायदा है और वो है ये एंटी फंगल और एंटी इंफेक्टिव है.
पुराने जमाने में तो कपूर का तेल इस्तेमाल होता था बाकि क्रीम के साथ एक एंटी फंगल एजेंट या एंटीसेप्टीक के तौर पर. और इस क्रीम को लगाने से जिसके अंदर थोड़ा सा कपूर का तेल हो इंफेक्शन की रोकथाम होती है खासकर जब त्वचा की समस्या हो.

6. कपूर की कुछ बूंदे अगर आप अपने बालों के तेल में डालें तो आप देखेंगे फंगल इंफ्केशन जैसे की इंचिंग एक दम बंद हो जायेगी.

7. कपूर, आजवायन और पिपरमेंट को बराबर मात्रा में लीजिए, इनको एक शीशी में डालकर मिला लीजिए और उस शीशी को धूप में रख दीजिए। बीच-बीच में इस घोल को हिलाते रहिए। इसकी चार से आठ बूंदें बताशे में या चीनी के शर्बत में मिलाकर दस्‍त के रोगी को दीजिए। इससे दस्‍त में आराम मिलेगा।

8. पेट दर्द और बेचैनी के लिए भी कपूर बहुत फायदेमंद है। पेट दर्द होने पर कपूर और अजवायन और पिपरमेंट को शर्बत में मिलाकर पीने से पेट दर्द समाप्‍त हो जाता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply