सुबह पेट साफ करने और कब्ज़ को जड़ से ख़त्म करने के असरदार घरेलु उपाय

0

पेट साफ करने और कब्ज़ के लिए रामबाण घरेलु उपाय इन हिंदी: दोस्तों, आज हम आपको कब्ज की परेशानी दूर करने के कुछ बड़े ही आसान उपाय बता रहे हैं, जिन्हें अपना कर आप इस समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं। आइये इसके बारे में हम विस्तार से जानते हैं।

कब्ज क्या है?

कब्ज एक ऐसी स्थिति है जिसमे व्यक्ति का पेट ठीक से साफ नहीं होता है और मल त्याग करते समय कष्ट भी होता है। कब्ज से पीड़ित व्यक्ति आम लोगों की तुलना में कम बार शौच करता है। जहाँ आम तौर पर लोग दिन में कम से कम एक बार शौच करते हैं वहीँ  कांस्टीपेशन का मरीज ३ या उससे भी ज्यादा दिनों तक मॉल त्याग नहीं कर पाता। इस कारण से उसका पेट भार-भारी रहता है और भोजन में भी अरुचि हो जाती है। कब्ज के कारण कुछ लोगों को उल्टी भी हो जाती है और सर में दर्द भी बना रहता है।

कब्ज होने के कारण – Kabj hone ke karan in hindi

  • बासी भोजन करना
  • भोजन ग्रहण करने में अनियमितता
  • अति विश्राम / कम शारीरिक श्रम
  • मानसिक तनाव / टेंशन
  • अधिक चिकनाई वाला भोजन
  • आंतों की कमजोरी
  • कम पानी पीना
  • खाना खाते समय अधिक जल ग्रहण करना
  • स्वभाव में अधिक उग्रता
  • गरम मसाले वाले तथा अधिक तैलीय खाना खाना
  • धूम्रपान / कैफीन द्रव्यों का सेवन

कब्ज के लक्षण क्या-क्या हैं? – Kabj ke lakshan in hindi

  • स्टूल (टट्टी/मल) का बहुत हार्ड और कम मात्रा में होना
  • ठीक से मल त्याग ना होना या पेट ना साफ़ होना
  • मल त्याग करने में तकलीफ होना
  • बार-बार ऐसा लगना कि अभी थोड़ा और मल त्याग करना चाहिए
  • पेट में सूजन या दर्द होना
  • उल्टी होना

कब्ज दूर करने के आयुर्वेदिक व घरेलू उपाय – Home Remedies Of constipation(Kabj) in Hindi

  • पपीता पेट ठीक करने में काफी लाभदायक होता है।
  • त्रिफला चूर्ण दो चम्मच हल्के गरम पानी में घोल कर नित्य रात्रि में सोते समय लेने से कब्ज की तकलीफ में तुरंत राहत मिलती है।
  • थोड़े गरम दूध या पानी के साथ हरड़, बहेड़ा, और आंवला का समान मात्रा में तैयार किया हुआ चूर्ण रात्री में सोने के पहले रोज लेने से कब्ज की बीमारी दूर होती है।
  • गाजर का रस निकाल कर पीना कब्ज में लाभदायक है।
  • गाय का दूध पीने से भी कब्ज मिटताहै।
  • कच्चे शलगम खाने से भी पेट साफ आता है।
  • कब्ज़ की तकलीफ दूर करने के लिए मुनक्का एक असरदार उपाय है। आठ से दस मुनक्का गरम दूध में उबाल कर नित्य सेवन करने से पेट को राहत मिलती है। और मल सरलता से त्याग हो जाता है।
  •  सेब तथा अंगूर खाने से भी पेट साफ आता है। सेब का ज्यूस काफी उपयोगी होता है। सेब का ज्यूस पीने से आंतों की अंदरूनी सतह पर बदबू और संकमण नाशक परत का सर्जन हो जाता है। और सेब का नित्य सेवन अन्य कई बीमारियों से रक्षण प्रदान करता है।
  • आंवला का चूर्ण कब्ज़ को जड़ से मिटा देता है। आंवला का चूर्ण रात्री में सोने से पहले अति गुणकारी है।
  • आंवला कई तरह से ग्रहण किया जा सकता है। आप इसका जूस पी सकते हैं। आंवला को सूखा कर चूर्ण बनाया जा सकता है। और आंवला की चटनी भी बना कर खायी जा सकती है।
  • आंवला के मुरब्बे को खाने के बाद ऊपर दूध पीने से कब्ज में राहत हो जाती है।
  • टमाटर खाने से भी कब्ज़ खत्म हो जाता है। खाने के साथ सलाद में कच्चा टमाटर खाना लाभदायी होता है।
  • टमाटर का सूप भी पिया जा सकता है। टमाटर जिद्दी आंतों में जमे पुराने मल को साफ करने का सटीक उपाय है।
  • बैंगन की सब्जी, चोलाई की सब्जी, पालक की सब्जी, आम, चने, दूध और शहद का मिश्रण मल त्याग वृति को सरल बनाता है।
  • तांबे के बर्तन में एक चुटकी नमक डाल कर पानी रात भर ढक कर रख कर सुबह में उस पानी को पीने से कब्ज में राहत हो जाती है।
  • एक चम्मच अरंडे का तेल जीभ पर नमक लगा कर रात को पी जाने / निगल जाने से मल साफ आता है।
  • सब्जी पकाते समय उसमे लहसुन का प्रयोग करने से कब्ज की सम्भावना कम हो जाती है। लहसुन पाचन शक्ति वर्धक और गैस का शत्रु है। इसलिए लहसुन का सेवन नित्य करना
  • मसूर की दाल कब्ज़ में राहत देती है।
  • मूंग और चावल की ढीली गरम खिचड़ी खाने से भी पेट साफ आता है।
  • चाहिए।
  • फूलगोभी, गाजर, पालक, घी, और बड़ी इलायची कब्ज की परेशानी में राहत देते हैं।
  • नींबू अदरख और शहद क मिश्रित रस आंतों को साफ कर देता है। और कब्ज की शिकायत दूर करता है।
  • अमरूद खाने से कब्ज नहीं होता है। और अमरूद खाने के बाद ऊपर से दूध पीने से पुराने कब्ज की तकलीफ चुटकियों में दूर होती है।
  • धनिया कब्ज तोड़ने में मदद करता है धनिये की चटनी भी लाभदायी होती है।
  • त्रिफला, अजवायन और सेधानमक क समान मात्रा वाला मिश्रण रात को सोते समय एक चम्मच गरम पानी के साथ रोज लेने से कब्ज में राहत हो जाती है।
  • अदरख, लौंग और सौंठ कब्ज़ मिटाने के राम बाण इलाज है। अदरख क रस शहद में मिला कर पीना लाभ दायी होता है।
  • सौंठ अजवायन और काला नमक समान मात्रा में मिश्रित कर के मिश्रण तयार कर लें और एक चम्मच सुबह और एक चमच सोने के पूर्व पानी के साथ लेना कब्ज मिटाता है।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply