छोटे स्तनों को बड़ा करने के घरेलू उपाय

0

स्तन को स्त्री के शरीर का सबसे खूबसूरत और आकर्षक अंग कहा जाता है। ये स्त्री की सुंदरता में न सिर्फ चार चांद लगाते हैं बल्कि उसे सेक्सी लुक भी देते हैं। कई लड़कियों और स्त्रियों को अपने स्तन के आकार को लेकर शिकायत रहती है। स्तन (Stan) का आकार छोटा होना, ढंग से स्तन का विकसित नहीं होना जैसी कई शिकायत आम हैं। स्तन का आकार बढ़ाने के लिए एस्ट्रोजन नामक हार्मोन जिम्मेवार होता है। महिलाएं चाहें तो घर पर रहकर ही स्तन के आकार को ठीक कर सकती हैं।

यदि आप वास्तव में अपने छोटे आकार के स्तन (Chhote Stan) से चिंतित है तो कुछ व्यायाम, घरेलू उपचार से स्तन का साइज बड़ा कर सकती हैं। आइए जानते हैं स्तन के आकार को बढ़ाने के कुछ आसान उपाय। इन उपायों का प्रयोग कर आसानी से स्तन बड़े किए जा सकते हैं।

घर पर ब्रेस्ट के आकार को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के तरीके- डाइट

1. दूध

दूध, दुग्ध के उत्पाद, मक्खन इन सब के बारे में जान लीजिए की यह स्तन का आकार बढ़ाने में काफी सहायक होते हैं। दूध में अधिक मात्रा में वसा होती है जो स्तन के उतकों में वसा बनाने का काम करते हैं। साथ ही वसायुक्त आहार लेने से भी ब्रेस्ट का आकार बढ़ जाता है।

साइड इफेक्ट- अगर आप ऐसा करते हैं तो हो सकता है कि आपका शरीर थोड़ा भारी हो जाए। आपका वजन भी बढ़ सकता है, लेकिन अगर आपको दूध से किसी प्रकार कि कोई एलर्जी है तो आपको पहले इसको लेने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श ले लेना चाहिए। वहीं एलर्जी का इलाज कराने के बाद ही आप इसका सेवन करें।

अच्छी बात – दूध, स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। हमें नहीं लगता कि अब इसके अलावा आपको कुछ और इसके बारे में बताने की जरूरत है।

2. सोया मिल्क और सोया बीन्स

सोया मिल्क प्रोटीन का अच्छा स्त्रोत है। इस बात से हम सभी अच्छे से वाकिफ हैं। यह जहां आईसोफ्लावोंस को बढ़ाता है, वहीं दूसरी ओर एस्ट्रोजन जो कि असल में ब्रेस्ट के आकार को बढ़ाने में मदद करता है उसको बढ़ाता है। जान लें कि सोया मिल्क सोया बीन्स से ही प्राप्त होता है। साथ ही सोया बींस भी इसी तरीके से एस्ट्रोजन के लेवल को बढ़ाने का काम करती है जितना की शरीर को उसको कंज्यूयम कर पाता है।

साइड इफेक्ट- जान लें कि यह आपके मासिक धर्म के चक्र को प्रभावित कर सकता है। साथ ही इसको स्तन कैंसर के साथ भी जोड़ा जाता है। इसलिए इसको अधिक मात्रा में लेने से परहेज करना चाहिए।

अच्छी बात- यह बड़े ब्रेस्ट पाने के लिए काफी ज्यादा प्रभावी है। अगर सीधा-सीधा कहें तो इसके सेवन से बड़े ब्रेस्ट पाने का यह रिस्क काफी हद तक सॉल्व हो जाता है।

3. पपीता

आपको शायद यकीन ना हो लेकिन यह सच है कि पपीता भी ब्रेस्ट के आकार को बढ़ाने में काफी ज्यादा मददगार है। वहीं अगर पपीते को दूध के साथ लिया जाए तो यह आपके ब्रेस्ट के साइज को ब़ढ़ाने के लिए एक वरदान साबित हो सकता है।

साइड इफेक्ट- ध्यान रखें की इसका सेवन गर्भवती महिलाओं को बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। साथ ही इसको ज्यादा मात्रा में नहीं खाना चाहिए। इसका सेवन ज्यादा कर ने से आपको दस्त लग सकते हैं।

अच्छी बात- यह आपको काफी आसानी से उपलब्ध हो जाता है। यही इसकी सबसे अच्छी बात है। साथ ही इससे किसी प्रकार का नुकसान नहीं है।

4. क्रकच ताल (Saw Palmetto)

यह एक ऐसी जड़ी बूटी है जो महिला और पुरुष के हार्मोन को रेग्युलेट करने में काफी मदद करती है। साथ ही इसमें ब्रेस्ट के आकार को बढ़ाने वाले सभी गुण मौजूद होते हैं।

साइड इफेक्ट- इसका ओवरडोज लेना काफी नुकसानदायक है।

अच्छी बात- यह आपको काफी आसानी से उपलब्ध होगा, लेकिन इसकी खुराक लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लेना चाहिए।

घर पर ही ब्रेस्ट के आकार को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के तरीके- योग

योग आपके किसी भी कप साइज ए,बी,सी और डी को बढ़ाने का सबसे आसान और सरल तरीका है। इसकी मदद से आप अपने ब्रेस्ट को ऊपर उठाने में काफी मदद कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में..

भुजंगासन या कोबरा पोज

भुजंग, जिसे इंग्लिश में कोबरा कहते हैं और चूंकि यह दिखने में फन फैलाए एक सांप जैसा पॉस्चर बनाता है इसलिए इसका नाम भुजंगासन रखा गया है। आप भी कई ब्लॉग और बेवसाइट में इस आसन के बारे में पढ़ चुके होंगे। इसलिए आपको बताने की जरूरत नहीं है कि ये स्तन वृद्धि में किस तरह से काम करता है, लेकिन फिर भी आप जान लें कि ये ब्रेस्ट को आकार को बढ़ाने में काफी ज्यादा मददगार है। तो चलिए जानते हैं इसको करने की विधि।

कैसे करें- इसके लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं। अब दोनों हाथ के सहारे शरीर के कमर से ऊपरी हिस्से को ऊपर की तरफ उठाएं, लेकिन कोहनी आपकी मुड़़ी होनी चाहिए। हथेली खुली और जमीन पर फैली हो। अब शरीर के बाकी हिस्सों को बिना हिलाए-डुलाए चेहरे को बिल्कुल ऊपर की ओर करें। कुछ समय के लिए इस पॉस्चर को यूं ही रखें। ऐसे आपको सिर्फ 10-15 बार करना है।

द्विकोनासन या डबल कोण मुद्रा

इसे डबल एंगल पोज कहते हैं। ये भुजंगासन से थोड़ा सा मुश्किल आसन है किन्तु इसके अभ्यास से आप इसे जल्द ही सीख जाओगे। ये आसन भी स्तन के आकर को बढ़ाने के लिए बहुत प्रचलित है।

कैसे करें- इसको करने के लिए आप अपने पैरों को मिला कर खड़े हो जायें। अब अपने हाथों को अपनी कमर को पीछे मिला लें। इसके बाद आप अपनी कमर को झुकाते हुए अपने हाथों को बाहर की तरफ खींचे। ध्यान रहे आपके घुटने न मुड़ें और आपका चेहरा आपके घुटने के पास हो। साथ ही आपके हाथ खिंचे हुए हों। आप इस स्थिति में थोड़ी देर रहें, फिर वापस साधारण अवस्था में आ जायें। इस आसन को कम से कम 6 बार दोहरायें।

उष्टासन या कैमल पोज

उष्टासन से तात्पर्य यह है कि एक ऐसा आसन जिसको करते समय आपके शरीर की बनावट एक ऊंट के समान हो जाती है| अत: इस आसन को उष्टासन कहा जाता है। इसे कैमल पोज़ आसन भी कहा जाता है। जिससे जंघाओं पर से वसा कम करने और स्तन के आकार को बढ़ाने में काफी मदद मिलती है।

कैसे करें- इसे करने के लिए आप अपने घुटनों के बल खड़े जायें और धीरे-धीरे पीछे की तरफ झुकते हुए अपने सीधे हाथ से अपने सीधे पैर के टखने को और उल्टे हाथ से उल्टे पैर के टखने को छूने की कोशिश करें। आप इस अवस्था में कम से कम 8 से 10 मिनट तक रहें। इस क्रिया को आपको 10 बार दोहराना है।

इसके अलावा जान लें कि “गोमुखासन”, जिसे करने के लिए आपके शरीर के ऊपर के हिस्से को अधिक कार्य करना होता है। वहीं दूसरा “स्तब्धासन” ब्रेस्ट के साइज को बढ़ाने और पेक्टोरल मांसपेशियों का विकास करने का काम करता है। साथ ही योग के आसन अच्छे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत जरूरी हैं।

घर पर ही ब्रेस्ट के आकार को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के तरीके- एक्सरसाइज

ब्रेस्ट के साइज को बढ़ाने के लिए व्यायाम सबसे आसान तरीका है। इसको करने से जहां शरीर की सुंदरता में निखार आता है, वहीं दूसरी ओर एक्सरसाइज करने से स्तन ग्रंथियों में विकास होता है। आज हम आपको ऐसे ही ब्रेस्ट के साइज को बढ़ाने वाली एक्सरसाइज के बारे में बताने जा रहे हैं। यकीन मानिए आज हम आपको जिन एक्सरसाइज के बारे में बताने जा रहे हैं यह आपके लिए जरूर मददगार होंगी।

पुश अप

पुश अप्स करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाइए, फिर अपने शरीर का वजन हाथों और घुटनों पर रखें। इसके लिए आपको हथेली के बल पर अपने शरीर को उठाना पड़ेगा, ध्यान रहे कि आपके दोनों हाथ कंधों के नीचे रहें। कमर सीधी रखें, फिर अपनी कुहनियों को मोड़ें और सीने को फर्श के नजदीक लाएं। फिर वापस पहले वाली स्थिति में लौट जाएं। इसी प्रक्रिया को बार-बार दोहराएं, यही प्रक्रिया पुश अप कहलाती है।

दीवार से उल्टे होकर पुश अप्स

यह भी बिल्कुल वैसे तो पुश अप्स की तरह ही है। इसके लिए बस आपको दीवार पर सीधा खड़ा होना है। फिर साथ ही अपने कंधों को दीवार से लगाते हुए हाथों को जोड़ना है। इसमें आप अपने पैरों को एकदम स्थिर रखें। फिर अपनी पूरी बॉडी पर खिंचाव देते हुए स्ट्रेच करें। साथ ही अपने हाथों को भी एकदम सीधा रखें। जान लें कि ऐसा आपको 10 से 15 बार रोजाना करना है।

फ्री वेट

शायद आपको इसके बारे में जानकारी ना हो, लेकिन डंबल के बारे में तो हमें उम्मीद है कि आप अच्छे से जानती होंगी। इसके लिए बस आपको भार के हिसाब से 3 से 5 पाउंड वजन लेना है। फिर अपने पैरों से उठाते हुए इसे अपने दोनों हाथों में कंधे तक ले जाते हुए इसे पकड़कर ऊपर उठाना है। फिर धीरे-धीरे आप अपने हाथों को सीधा कर लें और बांहों पर जोर देना कम करें। ऐसा आपको कम से कम रोजाना 10 से 15 बार करना है।

बेंच प्रेस

ब्रेस्ट के साइज को बढ़ाने के लिए सबसे असरदार एक्सरसाइज के नाम से मशहूर वर्कआउट है बेंच प्रेस। यह ब्रेस्ट की मसल्स को काफी मजबूत बनाने का काम करती है। बेंच प्रेस करने के लिए बेंच पर कमर के बल लेट जाएं और दोनों हाथों से बार्बेल को पकड़ें। अब 12 से 15 बार इसे उठाएं और नीचे लाएं। इससे महिलाओं के स्तनों और उसके आस-पास के स्थान की मांसपेशियां मजबूत बनेंगी और स्तन का आकार भी बढ़ता है।

ये व्यायाम जान लें कि ना सिर्फ आपको टोन्ड बनाए रखते हैं, साथ ही आप में एक कॉन्फिडेंस का विकास करते हैं।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply