जानिए ब्लैक टी से कैसे वजन घटाए

0

ब्‍लैक-टी में कई ऐसे गुण होते हैं जो आपके बढ़ते वजन को कम करते हैं। शोधों में भी यह बात साबित हो चुकी है दूध वाली चाय की अपेक्षा बिना दूध वाली चाय ज्यादा फायदेमंद है। सबसे पहले तो इसमें दूध नहीं होता है जो वजन बढ़ाने का काम करता है।

ब्‍लैक टी वजन कम करें

यूं तो चाय बहुत फायदेमंद होती है। यह दिमाग की टेंशन को दूर कर आपको तरोताजा रखने में भी मदद करती है। तन-मन में स्‍फूर्ति भरती है। लेकिन, इसके साथ ही चाय वजन कम करने में भी मदद करती है। चाय में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट शरीर से अतिरिक्‍त चर्बी हटाने में कारगर साबित होते हैं। आप अगर चाय पीकर वजन कम करने की चाह रखते हैं, तो आपको कुछ बातों का ध्‍यान रखना चाहिए।

कुछ बातों का ध्‍यान रखें

  • यदि आप रोजाना ब्‍लैक टी पीते हैं तो आपका वजन निंयत्रित रहता है जिससे आपको हार्ट स्‍ट्रोक का खतरा कम होगा। इसमें मौजूद फ्लेवेनॉइड खराब कोलेस्‍ट्रॉल को बनने से रोकता है।
  • चाय में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट वजन घटाते हैं, लेकिन इसके असर को दूध काफी हद तक खत्म कर देता है।
  • ब्‍लैक टी पीने से वजन कम होता है क्‍योंकि आप उसमें ना तो दूध मिलाते हैं और ना ही चीनी। ब्लैक टी के लिए हमेशा टी बैग का प्रयोग करें। इस तरह से आप अपनी कैलोरी काउंट कर सकते हैं।
  • कई जानकारों का यह भी मानना है कि दूध वाली चाय वजन कम करने की बजाए उसे बढ़ाने का काम करती है। आमतौर पर चाय में वसा कम करने के कई तत्व होते हैं। लेकिन चाय में दूध मिलाते ही चाय में वसा कम करने की क्षमता कम हो जाती है।
  • चाय में पाए जाने वाले और वजन घटाने में प्रभावशाली थीफलेविन्स और थिरोबिगिन्स जैसे तत्वों का असर दूध कम कर देता है। दरअसल, चाय में मौजूद ये तत्व शरीर की चर्बी घटाने और कोलेस्ट्रॉल कम करने में सहायक होते हैं। लेकिन दूध में प्रोटीन की मात्रा अधिक होने के कारण इनका प्रभाव कम हो जाता है।
  • यानी हम यह कह सकते हैं कि वजन घटाने के लिए बिना दूध वाली चाय लाभकारी है और शरीर में मौजूद अतिरिक्त चर्बी और कॉलेस्ट्रॉल को घटाने में सहायक है।

ब्‍लैक टी के अन्‍य फायदे

वेस्टर्न आस्ट्रेलिया यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि जो लोग दिन में तीन बार बिना दूध की चाय पीते हैं उनका रक्‍तचाप अधिक नियंत्रित रहता है। अध्ययन के लेखक जोनाथन हागसन के हवाले से वैबएमडी ने बताया कि पहली बार पता लगा है कि लंबे समय तक काली चाय के इस्तेमाल से उच्च रक्तचाप वाले लोगों में इसके असर से रक्तचाप में दस प्रतिशत गिरावट आ सकती है और दिल के रोग तथा दिल के दौरे का खतरा भी दस प्रतिशत कम हो जाता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply