हनुमान जयंती पर हनुमान जी को जरूर चढ़ाये ये एक फूल, बरसेगा पैसा ही पैसा

0

इस बार हनुमान जयंती 11 अप्रैल यानी मंगलवार को मनाई जायेंगी. हिन्दू धर्म के अनुसार यह बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है क्यूंकि इस दिन भगवान हनुमानजी का जन्म हुआ था. हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र मास की पूर्णिमा तिथि को हर वर्ष हनुमान जयंती मनाई जाती है. समूचे देश में बड़ी धूमधाम से रामभक्त हनुमान का जन्मोत्सव मनाया जाता है. हनुमान जयंती का दिन हनुमानजी और मंगल देवता की विशेष पूजा का दिन है.

हनुमान जयंती के दिन हनुमानजी की पूजा में तेल और लाल सिंदूर चढ़ाना बहुत जरुरी है. ऐसा करना बहुत ही शुभ माना जाता है और साथ ही हनुमानजी का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार शनि का अशुभ प्रभाव दूर करने के लिए हनुमानजी को प्रसन्न करना बहुत जरुरी है. भगवान श्री हनुमान ने भगवान श्रीराम के चरणों में अपने जीवन को समर्पित कर दिया. इनको संकटमोचन इसलिए कहा जाता है क्यूंकि ये असंभव कार्यों को भी चुटकियों में पूर्ण करने की क्षमता रखते हैं.

वास्तु के अनुसार घर में कुछ पौधों का रोपन करवाने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है,अौर रुके हुए कार्य बनने लगते हैं। ऐसा ही एक पौधा है गुडहल।

गुडहल के पौधे का संबंध सूर्य अौर मंगल ग्रह से होता है। हनुमान जी को गुडहल का फूल अर्पित करने से मंगल ग्रह प्रसन्न होता है। प्रतिदिन पूजा करने से पारिवारिक सदस्यों के यश में वृद्धि होती है। घर में गुडहल का पौधा लगाना शुभ होता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply