हनुमान जयंती: आज इस ख़ास समय करे पूजा, बन रहा है राजयोग मिलेगा कई गुना फल

0

इस वर्ष हनुमान जयंती पर विशेष योग बन रहे हैं। चार साल बाद इस बार संकट मोचन की जयंती चंद्रग्रहण से मुक्त रहेगी। चैत्र शुक्ल पक्ष पूर्णिमा 11 अप्रेल को आ रही हनुमान जयंती में राज योग के साथ ही शुक्र मीन राशि में उच्च का होगा, जिसकी सूर्य के साथ युति रहेगी। द्वितीय स्थान पर मेष राशि का मंगल शुभ फलदायी रहेगा। विशेष योग होने के कारण हनुमान जयंती भक्तों के लिए विशेष फलदायी रहेगी। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार चैत्र मास की शुक्ल पक्ष अष्टमी को मंगलवार होने से अल्प वर्षा के योग हैं। विदित हो कि वर्ष-2013 से लगातार हनुमान जयंती पर चंद्रग्रहण के योग बन रहे थे लेकिन इस बार चंद्रग्रहण मुक्त रहेगी। इससे पूजा- अर्चना और आराधना में कोई संकट नहीं आएगा।

सूर्योदय से शुरू होगा राजयोग

विशेष संयोगों के कारण इस दिन हनुमानजी की आराधना से श्रद्घालुओं की मनोकामना शीघ्र पूर्ण होगी। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य, शनि, राहु के दोषों के निवारण के लिए हनुमान आराधना विशेष मानी जाती है। पंडित देवेंद्र शर्मा ने बताया कि इस वर्ष हनुमान जयंती मंगलवार को चित्रा नक्षत्र युक्त राजयोग में मनाई जाएगी। राज योग सूर्योदय से ही आरंभ होगा जो दिन में 11.38 बजे तक रहेगा। कई वर्षों बाद यह योग बन रहा है।

आध्यात्मिक प्रभाव बढ़ा रहे हैं योग

पूर्णिमा पर चित्रा नक्षत्र और राजयोग मिलने पर जयंती का आध्यात्मिक प्रभाव बढ़ गया है। इस बार राजयोग में पड़ रही हनुमान जयंती के कारण हनुमान भक्तों में विशेष उत्साह है।

साल में दो बार मनाई जाती है हनुमान जयंती

चेत्र माह की शुक्ल पूर्णिमा हनुमान जयंती मनाई जाती है, लेकिन महर्षि वाल्मिकी रचित रामायण में अलग तथ्य हैं। जिसके अनुसार हनुमान जी का जन्म कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मंगलवार के दिन, स्वाति नक्षत्र और मेष लग्न में हुआ था जो दीपावली से एक दिन पहले नरक चतुर्दशी या रूप चतुर्दशी के दिन आता है। इस तरह हनुमान जयंती साल में दो बार मनाई जाती है।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply