टूटी हुई हड्डियों को जल्दी जोड़ने वाली रामबाण औषिधि हड़जोड़

0

हड़जोड़ में सोडियम, पोटैशियम और कैल्शियम कार्बोनेट भरपूर पाया जाता है। हड़जोड़ में कैल्शियम कार्बोनेट और फास्फेट होता है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। आयुर्वेद में टूटी हड्डी जोड़ने में इसे रामबाण माना गया है।

hadjod-benefits

रंग : हड़जोड़ का रंग भूरा होता है।

स्वाद : हड़जोड़ का स्वाद तीखा व कषैला होता है।

स्वरूप : हड़जोड़ की बेल होती है जिसमें हर 5 अंगुल में गांठ होती हैं और इसमें 3 या 4 धारी भी होती हैं।

स्वभाव : हड़जोड़ गर्म होती है।

मात्रा : 2 ग्राम।

गुण : हड़जोड़ की जड़ी बूटी टूटी हुई हडि्डयों को जोड़ देती है। यह पीने तथा लगाने दोनों ही के काम में आती है तथा यह वात और कफ का नाश करती है। गरम, दस्तावर और कीड़ों को मारती है। बवासीर को दूर करने के साथ ही यह आंखों की बीमारियों को भी दूर करती है। हलकी, रूखी और स्वादिष्ट होती है। वीर्य को भी बढ़ाती है। चौधारी हड़जोड़ भूनोपद्रव और प्रेत-बाधा को दूर करती है, दर्द को खत्म कर देती है। हड्डी के टूटने पर हड़जोड़ के तने को तेल में भून कर लगायें फिर प्लास्टर या खपच्ची बांध दें।

हड़जोड़ का विभिन्न रोगों में उपयोग :  

पाचनशक्तिवर्द्धक

खाना देर से हजम हो रहा हो तो हड़जोड़ का 2 ग्राम चूर्ण और सोंठ का 2 ग्राम चूर्ण मिलाकर पानी से निगलिये लगभग 12 दिनों तक ।

हड्डी जोड़ने में

२ ग्राम हडजोड. का चूर्ण दिन में ३ बार लेने से और उसके रस को हड्डी पर लेप करने से हड्डियां जल्दी जुड़ जाती है |

टी बी या दमा

किसी को दमे वाली खांसी हो तो प्रतिदिन इसके ताने का 2 चम्मच रास पिलायें । 2 माह में टी बी या दमा जड़ से ख़त्म हो जायेगा।

पेट दर्द

अगर पेट में दर्द हो रहा है तो हड़जोड़ की 4 या 5 शाखा को चुने के पानी में उबाल लीजिये । फिर उस पानी को छान कर पिला दीजिये।

रक्तप्रदर

रक्तप्रदर या मासिकस्राव की अधिकता में हड़संघारी (हड़जोड़वा) का रस 10 से 20 मिलीलीटर की मात्रा में सुबह-शाम गोपीचन्दन, घी और शहद के सेवन करने से बहुत अधिक लाभ मिलता है।

बदन दर्द

पूरे बदन में दर्द हो रहा हो तो बिस्तर पर हड़जोड़ की मुलायम टहनियों को बिछा कर उन पर सोने की सलाह आयुर्वेद देता है।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply