नपुंसक बना सकती है आपकी ये 19 आदतें, आज ही छोड़ें इन्हें !!!

0

आज कल पुरुषों में नपुंसकता काफी आम समस्‍या हो चली है, जिसके बारे में या तो पुरुष जानबूझ कर आंख मूंद कर सब कुछ सही होने की कामना करता है या तो दुनिया भर की दवाई और वेद्यों के चक्‍कर लगाता है। आमतौर पर नपुंसकता का कारण शरीर में उपलब्ध हार्मोंस में गड़बड़ी या इनकी कमी के कारण होती है। नपुंसक होने के कई ढेर सारे कारण हो सकते हैं जैसे, मानसिक दबाव और अवसाद, शराब / ड्रग का नशा, धुम्रपान, मोटापा, मधुमेह, हृदय रोग या उच्च रक्त चाप आदि।

habits-that-make-you-impotent-in-hindi

एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में एक शोध में यह आशंका व्यक्त की गई है जिसमें 2025 तक नपुंसक लोगों की सर्वाधिक संख्या भारत में होगी। इसके लिए जिम्मेवार कारणों में ग्लोबल वार्मिंग समेत भारतीयों की अनियमित जीवन शैली है। हाल में स्वीडन के गोटेबर्ग शहर में संपन्न दसवीं ‘वर्ल्ड कांग्रेस फॉर सेक्सुएल हेल्थ’ में बताया गया कि दुनिया में नपुंसकता के शिकार अधिकतर व्यक्ति एशिया, अफ्रीका और उत्तर अमेरिका में हैं। पुरुषों को अक्सर बाहर की चीजें बहुत पसंद होती हैं। घर के खाने की बजाय वो बाहर के खाने में ज्यादा इंट्रेस्टेड होते हैं। लेकिन ये आदतें उनके काफी नुकसान पहुंचता है। लगातार बाहर खाना खाने से भी पुरुषों में पौरुष की कमी होने लगती है क्योंकि बाहर के फास्ट फूड में कुछ ऐसे रसायनिक तत्व मिलाएं जाते हैं जो किसी भी लड़के के पौरुष को नुकसान पहुंचाते हैं।

आइये जानते हैं कुछ ऐसी खराब आदते जो पुरुषों को नपुंसक बना सकती हैं..

1. वनस्पति घी

वनस्पति घी के सेवन से मोटापे का खतरा बहुत अधिक होता है। इसमें ट्रान्स फैट्स और अनसैचुरेटेड फैट्स बहुत अधिक मात्रा में होते हैं जिससे चर्बी तेजी से बढ़ती है। यह बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाता है जिससे दिल के रोगों का खतरा बढ़ जाता है।

2. माइक्रोवेव पॉपकॉर्न

हो सकता है कि माइक्रोवेव में तैयार होने वाले पॉपकॉर्न आपको बहुत पसंद हों लेकिन इनमें मौजूद प्रिजर्वेटिव्स, सोडियम और सोया प्रोटीन सेहत के लिए बहुत हानिकारक है। ह्यूमन रिप्रोडक्शन 3 जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार, माइक्रोवेव पॉपकॉर्न का अधिक सेवन नपुसंकता के रिस्क को 60 प्रतिशत बढ़ा देता है। इसके अलावा इससे थायरॉइड को नुकसान पहुंचता है और प्रतिरोधी क्षमता घटती है।

3. सप्‍पलीमेंट

आमतौर पर देखा जाता है कि लोग इतना ज्‍यादा जंक फूड खाने लग गए हैं कि उन्‍हें सही प्रकार का प्रोषण नहीं मिल पाता। ऐसे शरीर में उस पोषण की कमी को पूरा करने के लिये वे दवाई की दुकान से सप्‍पलीमेंट लेने लग जाते हैं, जिसका सीधा असर नपुंसकता पर पड़ता है।

4. प्रोसेस्ड मीट

नॉनवेज के शौकीन हैं तो आपको भी डिब्बाबंद प्रोसेस्ड मीट पसंद होगा। लेकिन इसका नुकसान जानना बेहद जरूरी है क्योंकि इसके सेवन से ब्रेस्ट कैंसर तक हो सकता है। इनमें हेट्रोसाइकिलिक एमाइन्स, पोलीसाइकिलिक अरोमाटिक हाइड्रोकार्बन और एडवांस्ड ग्लाइसेशन्स इंड प्रोडक्ट्स जैसे तत्व होते हैं। इनसे कोलोन कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, दिल के रोग, किडनी के रोग और डायबिटीज जैसे खतरों का रिस्क बढ़ जाता है।

5. डिब्बाबंद फल और सब्जियां

डिब्बाबंद फलों और सब्जियों को प्रिजर्व करने के लिए उसमें बीपीए नामक रसायन डाला जाता है जिसके सेवन से एसिडिटी की समस्या बहुत बढ़ जाती है। साथी ही, यह शरीर के मेटाबॉलिज्म को भी नुकसान पहुंचाता है।

6. साइकिल चलाना

रिसर्च के अनुसार पता चला है कि जिन पुरुषों को हफ्ते में तीन घंटे साइकिल चलाने की आदत है, उन्‍हें नपुंसक होने का चांस उन पुरुषों की तुलना में बढ जाता है जो बिल्‍कुल भी या कम समय के लिये साइकिल चलाते हैं।

7. आयोडीन नमक

अत्यधिक आयोडीन युक्त नमक के प्रयोग से नपुंसक होने की सम्भावना बढ़ जाती है.. डेनमार्क की सरकार ने 1956 मे आओडीन युक्त नमक बैन कर दिया था क्युकी आयोडीन नमक से डेनमार्क में अधिकांश लोग नपुंसक हो गये थे .. इसके बाद अमेरिका और यूरोप के कई देशो में भी आयोडीन नमक प्रतिबंधित कर दिया गया.. आयोडीन नमक की जगह सेंधा नमक प्रयोग किया जा सकता है

8. व्हाइट ब्रेड

व्हाइट ब्रेड से सेंडबिच बनें या ये बटर लगाकर खाई जाए, ब्रेकफास्ट में ये सभी को लुभाती है। व्हाइट ब्रेड को अगर आप सेहतमंद समझकर डाइट में लेते हैं तो अब इससे दूरी बना लें। कई शोधों में साबित हो चुका है कि इसमें मौजूद मैदा न सिर्फ पोषण के मामले में पीछे है बल्कि इससे दिल के रोगों का खतरा भी बढ़ सकता है।

9. कैफीन

अगर आपको बहुत ज्‍यादा कॉफी पीने कि आदत है तो आपको यह आदत अब बदलनी पडे़गी। कैफीन का हाई लेवल आपको नपुंसक बना सकता है।

10. आहार

शरीर को ठीक प्रकार से काम करने के लिये कई तरह के पौष्टिक तत्‍वों की आवश्‍यकता होती है। अगर आप सही प्रकार का आहार नहीं लेगें तो आप काफी खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। तीखे, खट्टे, गर्म और नमकीन पदार्थों का ज्यादा सेवन करने से पित्त कुपित होकर वीर्य का क्षय करता है, जिससे नपुंसकता पैदा होती है, इसे पित्तज क्लैब्य कहते हैं।

11. खर्राटे भरना

खर्राटे लेने का मतलब है कि आप सोते समय ठीक प्रकार से सास नहीं ले पा रहे हैं। मार्डन रिसर्च में ठीक प्रकार से न सो पाने और नपुंसकता को एकसार बताया गया है। जो लोग जो सोते समय खर्राटे भरते हैं वे उन लोगों के मुकाबले जो सोते समय खर्राटे नहीं लेते, दोगुना नपुंसक हो सकते हैं।

12. धूम्रपान

स्‍मोकिंग से ब्‍लड सर्कुलेशन धीमा पड़ जाता है। इसलिये स्‍मोकिंग करना छोड़ दीजिये जिससे शरीर में अच्‍छी प्रकार से ब्‍लड सर्कूलेट होना शुरु हो सके और आप नपुंसक होने से बच जाए।

13. मोटापा

मोटापा होने से शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे डायरेक्‍ट असर लिंग पर पड़ता है। इसलिये दिन में करीबन 45 मिनट जरुर व्‍यायाम करें और मोटापा घटा कर ब्‍लड सर्कुलेशन बढाएं।

14. टाइट अंडरवीयर

कुछ शोधों में यह माना गया है कि बहुत टाइट अंडरवीयर पहनने से पुरुषों में वीर्य का निर्माण काफी हद तक प्रभावित होता है।

15. लैपटॉप गोद में रखना

लैपटॉप को गोद में रखकर देर तक काम करने से प्रीमैच्योर इजेक्युलेशन से लेकर स्पर्म काउंट कम होने जैसी कई दिक्कतें हो सकती हैं। इससे फर्टिलिटी कम होती है।

16. तनाव

ज्‍यादा तनाव लेने से भी आप नपुंसक बन सकते हैं। यदि आप छोटी छोटी बातों पर दिनभर सोंच में डूबे रहेगें तो आप समस्‍या में पड़ सकते हैं।

17. नपुंसक बना सकता है गुटखा

जब गुटखे के पाउच की रंग-बिरंगी पैकिंग खोलकर अपने मुंह में डालें तो इस बात का भी ध्यान रखें कि गुटखे में मौजूद कई किस्म के रसायनों से हमारे डीएनए को भी नुकसान हो सकता है। गुटखे में तंबाकू, कत्था, सुपारी, चूने के साथ और कई नशीले पदार्थों को मिलाया जाता है, जो हमारे शरीर के एंजाइमों पर बुरा प्रभाव डालते हैं।

18. नींद

अगर आप रोज 8 घंटे की नींद नहीं लेगे तो आपके शरीर में थकान हो जाएगी और वह ठीक से काम नहीं कर पाएगा। ठीक प्रकार से न सोने की वजह से शरीर में हार्मोनल इंबैलेस हो जाता है जिससे नपुंसकता पैदा हो जाती है।

19. शराब

ज्‍यादा शराब पीने की वजह से खून की धमनियो में खून का दौरा कम होता है जिससे लिंग तक खून की सप्‍लाई उतनी नहीं हो पाती जितनी होनी जरुरी है। ऐसे में इंसान नपुंसक हो जाता है।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply