अदरक के 8 फायदे, जानिए

0

जब कोई चाय का कहता है तो हमारे मुँह से “अदरक वाली चाय” अपने आप निकल ही जाता है। अदरक सिर्फ चाय का स्वाद ही नहीं बढ़ाती बल्कि अदरक में औषधी गुण भी सच-मुच चौकाने वाले हैं।

अदरक का उपयोग हमारे ऋषि मुनियों ने सदियों पहले से औषधियों के रूप में किया है। जिसका प्रमाण हम हमारे चिकित्सक ग्रंथो में देख सकते हैं। करीबन चौथी शताब्दी के समीप चीनी लोग अदरक का उपयोग पेट दर्द की बीमारियों के लिए करते थे।

भारत के ग्रंथो में भी अदरक को सबसे अहम जड़ी-बूटी के रूप में माना जाता है।
आइये जानते हैं और क्या-क्या होते हैं अदरक से फायदे।

1. अदरक कैंसर कोशिका को नष्ट करता है

पहले कैंसर एक ला इलाज बीमारी के रूप में हम सबके लिए एक काल बना हुआ था मगर इन दिनों मेडिकल साइंस ने कैंसर जैसी बीमारी को भी परास्त कर दिया है। आने वाले दिनों में इसके लिए और बेहतर प्रयास किये जा रहे हैं उसी कड़ी में अदरक का भी परिक्षण किया गया था जिसमें सफल परिणाम मिले हैं।

यह भी गुण पाए गए

मिशिगन यूनिवर्सिटी कैंसर सेंटर के एक अध्ययन में पाया गया है कि अदरक ने ना सिर्फ ओवरी कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट किया, बल्कि उन्हें कीमोथैरेपी से प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने से भी रोका। आने वाले दिनों में और अच्छे परिणाम की उम्मीद की जा रही है।

2. श्वास की समस्या और दमा में भी है फायदेमंद

दमा एक ऐसी बीमारी है जिसमें फेफड़े सही तौर पर श्वास नहीं ले पाते और उसकी वजह से पीड़ित को श्वास लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ता है। अभी हुए एक अध्यन में अदरक का दमा रोग की रोकथाम के लिए सफल परिक्षण हो गया है।

यह भी हैं फायदे

हाल ही में हुए एक अध्ययन में पता चला है कि अदरक को दो तरीके से दमा के उपचार में ले सकते हैं। पहला हवा के मार्ग की मांसपेशियों को संकुचित करने वाले एन्ज़ाइम को अवरुद्ध करते हुए, दूसरे हवा के मार्ग को आराम पहुंचाने वाले दूसरे एंज़ाइम को सक्रिय करते हुए। आगे इसके और सफल परिक्षण की उम्मीद है।

3. अदरक से बेहतर पाचक कोई नहीं

अदरक हज़ारों सालों से एक पाचक के रूप में ही कार्य कर रहा है। अदरक पेट में गैस को नहीं बनने देती, तथा यह पेट को फूलने से भी रोकती है। साथ ही मरोड़ को दूर करने वाले अदरक के तत्व, पाचन क्रिया को ठीक बनाए रखते हैं। भोजन से पहले नमक छिड़क कर अदरक के टुकड़े खाने से लार बढ़ता है, जो पाचन में मदद करता है। अदरक, पेट की समस्याओं से भी बचाव करती है।

4. जोड़ो के दर्द में भी है फायदेमंद

अदरक में एक जिन्जरोल नाम का बहुत ही असरदार पदार्थ होता है जो इसकी उपयोगिता को और बढ़ा देता है। अगर आप जिम जाते हैं और आपकी मांसपेशीयां दर्द कर रही हैं तो आपको जिम छोड़ने की जरुरत नहीं है। आपको ज़रुरत है बस एक कप अदरक वाली चाय की।

5. सर्दी खांसी में यह करें

खास तौर पर अदरक को सर्दी खांसी और फ्लू के रोक थाम के लिए जाना जाता है। यह उपरी श्वांस मार्ग में पहुंच कर सर्दी के मरीज़ों को आराम पहुंचती है। अदरक का यह गुण इसे खांसी के लिए राम बाण उपाय साबित करता है।

6. माइग्रेन और मासिक चक्र में भी है फायदेमंद

एक शोध से पता चलता है कि अदरक माइग्रेन में राहत दे सकती है। ईरान में किए गए रिसर्च जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया है कि माइग्रेन के लक्षणों के उपचार में अदरक पाउडर माइग्रेन की आम दवा जितनी ही असरदार है।

7. अदरक में पाए जाते हैं एंटीओक्सिडेंट

अलग-अलग अध्यनों ने यह बात साबित कर दी कि अदरक में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं। एंटीऑक्सीडेंट बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि वे फ्री-रेडिकल्स के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं। इससे उम्र के साथ आने वाली तमाम तरह की बीमारियाँ जैसे कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, आर्थराइटिस, अल्ज़ाइमर्स और बाकी रोगों से बचाव में मदद मिलती है।

8. मोशन सिकनेस में भी असरदार है अदरक

अदरक अलग-अलग तरह से होने वाली उल्टी के लिए भी कारगर साबित होती है।गर्भवती महिलाओं को और सफ़र पर रहने वाले लोगों को, अदरक अपने पास रखना ही चाहिए। वयस्क कैंसर रोगियों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि रोज़ाना कीमोथेरेपी से पहले आधा से एक ग्राम अदरक की डोज़ दिए जाने पर, 91 फीसदी मरीजों काफी हद तक सुधार पाया गया।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply