रोज सुबह घर के दरवाजे पर करे पानी का छोटा सा उपाय, जमकर बरसेगा पैसा

2

रोज सुबह सिर्फ पानी से किया ये उपाय ऐसा माना जाता है कि सुबह-सुबह महालक्ष्मी पृथ्वी भ्रमण पर निकलती हैं। इस दौरान जिन घरों में साफ-सफाई और पवित्रता का पूरा ध्यान रखा जाता है वहां लक्ष्मी निवासकरती हैं।

तांबे के लौटे से मुख्य द्वार पर पानी छिड़कने से घर के आसपास का वातावरण पवित्र हो जाता है। नकारात्मकता नष्ट हो जाती है। पवित्र वातावरण घरों में ही सुख-समृद्धि और धन का वास होता है। ऐसे घर मेंरहने वाले लोगों को स्वास्थ्य संबंधी लाभ भी प्राप्त होते हैं।
हमारे घर में जो भी महिला सुबह जल्दी उठती हो उसे यह उपाय करना चाहिए।

उपाय इस प्रकार है-

उपाय के लिए स्त्री को सुबह जल्दी उठना है और घर के मुख्य द्वार पर प्रतिदिन तांबे के लौटे से जल छिड़कना है। यह छोटा सा उपाय है लेकिन बहुत कारगर है। जिन घरों में यह उपाय किया जाता है उन्हें महादेवी की कृपा प्राप्तहो जाती है।

तांबे का लोटा क्यों…

सभी प्रकार के पूजन कार्य में तांबे के लोटे की अनिवार्यता बताई गई है। तांबे की धातु को पवित्र माना जाता है। साथ ही, तांबे के लोटे में रखा पानी भी औषधीय गुण वाला हो जाता है। इसका पानी मुख्य द्वार पर छिड़कने से घर के आस-पास रहने वाले स्वास्थ्य के लिए हानिकारक कई सुक्ष्म कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। तांबे के लोटे से पानी पीने पर त्वचा संबंधी रोगों का नाश होता है। पेट से संबंधित कई रोग जैसे कब्ज, गैस आदि भी राहत मिलती है।

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

2 COMMENTS

Leave a Reply