यदि आपको डायरिया है तो जरूर खाएं ये 7 आहार,तुरंत फायदा होगा

0
blank

गर्मियां आते ही बीमारियों का अंबार लग जाता है। ऐसे में जरुरी है कि पेट की बीमारी से सबसे पहले बचा जाए क्‍योंकि पेट का संक्रमण सबसे पहले फैलता है। डायरिया एक ऐसी ही पेट की बीमारी है जो गर्मियों में सबसे ज्यादा फैलती है।

अगर आप खाने पीने की चीजों में साफ सफाई नहीं रखते या फिर बहुत ज्यादा यात्रा करते हैं, तो खान-पान की वजह से आपको भी डायरिया हो सकता है।

डायरिया के कारण बार बार पतला दस्त होता है, जिसकी वजह से शरीर के अंदर मौजूद पानी और नमक निकल जाता है। इससे शरीर में काफी कमजोरी आ जाती है इसलिये आज हम आपको कुछ ऐसे आसानी से उपलब्ध होने वाले आहारों के नाम बताएंगे जिन्हें डायरिया के समय खाया जा सकता है।

नारियल पानी

नारियल पानी में इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं जो आपके शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करेंगे। साथ ही इसमें पोटैशियम भी होता है जो कि पेट की एसिडिटी लेवल को कम करता है।

coconut-water

दही

दही पेट को ठंडक पहुंचाती है। इसमें अच्छे बैक्टीरिया और प्रोबायोटिक्स होते हैं जो कि पाचन क्रिया को ठीक कर के दस्त रोकती है।

लौकी

लौकी पेट को ठंडक पहुंचा कर पेट को राहत देती है। इसको खाने से दस्त रुक जाते हैं।

lauki

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

मूंग दाल

यह एक ऐसी अकेली दाल है जो आसानी से पच जाती है और चावल के साथ आराम से खाई जा सकती है। अगर दस्त हो रहे हैं तो थोड़ से चावल के साथ मूंग की दाल का सेवन करना चाहिये।

moong-dal

खिचड़ी

मूंग दाल की खिचड़ी इस दौरान खाने में काफी फायदेमंद रहती है। साबुदाने की खिचड़ी एक दम ना खाएं।

संतरे

इसमें फाइबर होता है जो कि पाचन क्रिया को ठीक ढंग से काम करने में मदद करेगा। साथ ही यह पेट को आराम भी पहुंचाएगा।

orange

छाछ

खुद को हमेशा हाइड्रेट रखना हो तो छाछ का सेवन करें। इससे पेट और आंतों में अच्‍छे बैक्टीरिया और प्रोबायोटिक जाएंगे जो दस्त को रोकेगें।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply