धन के देवता कुबेर आपके घर को धन से भर देंगे, रोज की पूजा में अपनाये सिर्फ ये 5 बात

0

भगवान शिव के द्वारपाल कहने वाले धन के देवता कुबेर लंकापति रावण के भाई कहलाते. परन्तु रावण के भाई होने के बावजूद उनके अंदर ब्राह्मण के गुण विद्यमान थे जिस कारण ही भगवान शिव द्वारा उन्हें धन के देवता होने का वरदान मिला था.

वैसे तो अक्सर लोग धन प्राप्ति के लिए माता लक्ष्मी की पूजा द्वारा उन्हें प्रसन्न करने का प्रयास करते है. यदि किसी कारणवश माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त नही हो पा रही हो तो ऐसे व्यक्तियों को धन के देवता कुबेर की शरण लेना चाहिए.

आज हम आपको पांच ऐसी बात बताने जा रहे है जिन्हें यदि आप अपनी रोज की पूजा में शामिल करेंगें तो धन की देवता कुबेर की कृपा आप पर अति शीघ्र बरसेगी.

1 . इस मन्त्र का करे जाप :-

ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नमः

इस मन्त्र का जाप आप रोज की पूजा में सुबह शाम करे. इस मन्त्र का जाप 108 बार करना चाहिए तथा जाप के दौरान कुबेर देव का ध्यान करे. मन्त्र जाप के समाप्ति के पश्चात यदि हनुमान चालीसा का पाठ किया जाय तो यह अति उत्तम होता है.

इससे आपकी आर्थिक स्थिति में बहुत जल्दी ही आपको परिवर्तन दिखने लगेगा.

2 . रात के समय जलाये भगवान शिव के समक्ष दीपक

धन के देवता कुबेर भी शिव के सामने रात को दीपक जलाने से ही धन के देवता बने हैं. इसलिए जो व्यक्ति रात को भगवान शिव के सामने दीपक जलाता है, उस पर कुबेर देवता विशेष ध्यान देते हैं.

इसलिए आप लगातार रात के समय शिव भगवान के सामने दीपक जरूर जलायें.

3 . घर में इस जगह पर स्थापित करे कुबेर देवता की मूर्ति

घर के अन्दर कुबेर देवता की तस्वीर या मूर्ति को लाभदायक माना गया है. यदि आपके घर में धन नहीं आ रहा है या फिर धन रुक नहीं पा रहा है तो आप कुबेर देवता की मूर्ति लायें और घर में उसको प्राण प्रतिष्ठा के द्वारा उत्तर दिशा में स्थापित करा लें. आपको लाभ मिलेगा.

4 . धन वाले स्थान में रखे कुबेर देवता की मूर्ति

घर में जहाँ धन रखा जाता है उस जगह पर या फिर तिजोरी में धन के देवता कुबेर का वास जरूर होना चाहिए. कुबेर देवता को कोषाध्यक्ष बताया गया है. पहले मंदिरों के बाहर कुबेर जी की मूर्तियाँ जरूर होती थीं क्योकि धन की रक्षा कुबेर जी करते हैं.

5 . दिवाली पर करे यह गुप्त पूजा

जानकार लोग अपने ख़ास पंडित की मदद से दिवाली पर कुबेर जी की गुप्त पूजा जरूर करवाते हैं. यह पूजा गुप्त नहीं होती है बस इस पूजा का सबको बताया नहीं जाता है.

यह पूजा एक सही पंडित, सही मन्त्रों के जाप से कर दे तो कुछ ही महीनों में उस घर को विशेष लाभ प्राप्त हो जाता है.

ये वो पांच तरीके है जिनकी सहायता से आप कुबेर देव को प्रसन्न कर उनकी कृपा प्राप्त कर सकते है.

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

Leave a Reply