इस पेड़ का सिर्फ़ 1 पत्ता मात्र 3 दिन में दमा या अस्थमा को घुटने टेकने पर मजबूर कर देगा

1

दम (अस्थमा या श्वांस रोग) अगर किसी को हो जाए तो ये उसकी मौत के साथ ही जाता हैं, ऐसा कहा जाता है। और फिर दमा का प्रकोप सर्दियों में अक्सर और भी बढ़ जाता हैं। मगर आज हम आपके लिए ले कर आये हैं एक ऐसा प्रयोग जो हमारे बहुत से भाइयो द्वारा अनुभूत हैं और अनेक लोगो का दमा इस से बिलकुल सही भी किया हैं, और अनेक वैद्य लोग भी इस प्रयोग को अक्सर इस्तेमाल करते हैं। उस औषधि का नाम है  दमबेल आइए जाने इसको इस्तेमाल करने के तरीक़े बारे में….

दमबेल का सेवन करने का तरीक़ा

  • दमबेल (tylophora indica) – दमबेल (दमबूटी) का एक पत्ता ले इसको गोली की तरह बना कर इसमें एक काली मिर्च डालिये और पान की तरह चबा चबा कर सुबह खाली पेट खा लीजिये। ऊपर से थोड़ा गर्म पानी पी लीजिये।
  • कुछ देर में उल्टी हो सकती हैं, जो के एक अच्छा संकेत हैं। उलटी होगी और आपके शरीर में जमा हुआ कफ निकल जाएगा। ये स्वाभाविक प्रक्रिया हैं घबराये नहीं, जब कफ निकल जाएगा तो उलटी अपने आप बंद हो जाएगी।
  • इस प्रकार तीन दिन सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से दमा जैसे भयंकर और कठिन रोग से पीड़ित रोगी को पूर्ण आराम मिल जाता हैं। अगर तीन दिन में इसका पूर्ण लाभ ना मिले तो इस प्रयोग को एक सप्ताह तक किया जा सकता हैं।

आवश्यक परहेज़ 

  • इसके बाद रोगी को एक महीने तक घी, तेल व सभी प्रकार की खट्टी व ठण्डी चीजो से परहेज करना चाहिए।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

1 COMMENT

Leave a Reply