इस फल का पानी पीने से पथरी गलकर बाहर निकल जाती है

0
  • नारियल गर्म-क्षेत्र (उष्ण-कटिबन्ध) में उगने वाला पेड़ है, इसीलिए  नारियल का मूल देश जावा और सुमात्रा को माना जाता है। नारियल हिन्द महासागर और पैसिफिक महासागर के तटवर्ती क्षेत्रों में भी पाये जाते हैं।
  • नारियल दो प्रकार की किस्मों में पाया जाता है। पहला-मोहानी नारियल और दूसरा-सादा नारियल। आजकल नारियल समुद्री जलवायु और दक्षिणी राज्यों में अधिक मिलता है।
  • मोहानी नारियल का खोपरा मोटा और शक्कर (चीनी) के समान मीठा होता है। सादा नारियल का खोपरा खाने में मीठा होता है। सादा नारियल की अनेक किस्में होती हैं। सादा नारियल के पौधे हरे व लाल रंग के होते हैं, फल के आकार अलग-अलग तरह के होते हैं। कुछ गोल तो लंबे, छोटे और बड़े होते हैं।
  • सादा नारियल और मोहानी नारियल के अलावा नारियल की तीसरी अन्य किस्म ठिगनी होती है। जिसके पेड़ पर 2 से 3 साल तक ही फल आते हैं।

कैसे बनाये ये दवा :

  1. नारियल का पानी दिन में 3 बार पीते रहने से पथरी मूत्र के द्वारा कटकर बाहर निकल जाती है।
  2. 12 ग्राम नारियल के पानी में आधा ग्राम यवक्षार मिलाकर दिन में 2 बार देने से लाभ मिलता है।
  3. नारियल का फूल 12 ग्राम को पानी के साथ मसलकर चटनी बना लें तथा उसमें लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग यवक्षार मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम लें। इससे पेशाब खुलकर आता है तथा मूत्राशय की पथरी गलकर बाहर निकल जाती है।

किन बातों का रखे ख्याल :

  • नारियल का सूखा खोपरा गर्म, रूक्ष और पित्तकारक होता है। इसका अधिक सेवन करने से खांसी, जलन और श्वास (दमा) रोग उत्पन्न होता है। अधिक खोपरा खाने से हुई हानि पर अगर ऊपर से शर्करा खाये और दूध पीये तो लाभ होता है।

आयुर्वेद हीलिंग एप्प के माध्यम से पाइए आयुर्वेद से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी, विभिन्न आयुर्वेदिक व घरेलू नुस्ख़े, योगासनों की जानकारी। आज ही एप्प इंस्टॉल करें और पाएं स्वस्थ और सुखी जीवन। सबसे अच्छी बात ये है कि ऑफलाइन मोड का भी फीचर है मतलब एक बार अपने ये एप्प इनस्टॉल कर ली तो अगर आपका नेट पैक खत्म 🤣 भी हो जाता है तो भी आप हमारे घरेलू नुस्खे देख सकते है तो फिर देर किस बात की आज ही इनस्टॉल करे । नीचे दिए गए लाल रंग के लिंक में क्लिक करे और हमारी एप्प डाउनलोड करे
http://bit.ly/ayurvedhealing

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply