भिंडी का पानी करेगा शुगर से लेकर दमा का इलाज़

0

भिंडी Okra कोई मौसमी पौधा नहीं है (Okra plant isn’t seasonal) यह हर मौसम में उगाया जाता है और खाया जाता है यह खाने में कई तरीको से इस्तेमाल किया जाता है जैसे के सब्जी , आचार या सूप में | यह खाने में उतना ही स्वादिष्ट लगता है चाहे वो गर्मियों का सीजन हो या सर्दियों का |

भिंड़ी एक कुसुमित पौधा है जो दुनिया के कई हिस्सों में “लेड़िज फिंगर या Okra” के रुप में जाना जाता है | अगल अलग देशो में इसका नाम बेशक अलग हों लेकिन काम एक जैसा ही है , और अपनी फली के कारण बहुत महंगी हैं। इसे अक्सर कैरिबियन से लेकर चीन तक के व्यंजनों में उपयोग किया जाता है और इसकी लोकप्रियता हर समय बढ़ती जा रही है, खासकर जब से इस सब्जी का इस्तेमाल अचार के रुप में, साइड़ ड़िश या सूप की एक सामग्री के तौर पर किया जा सकता है, इसे इसके तेल के लिए भी उपयोग किया जाता है जिसे निकाला जा सकता है तथा भिंड़ी के तेल के रुप में इस्तेमाल किया जाता है।

भिंडी के टेस्ट (Okra Taste) के बारे में तो आपको बेशक पता होगा लेकिन भिंडी के पानी Okra water के फयदों के बारे में आपको नहीं पता होगा | भिंडी के पानी से शुगर , किडनी की बीमारियाँ , दमा और कोलेस्ट्रॉल जैसे जानलेवा बीमारियों का इलाज़ संभव है | आगे हम आपको बताएगे भिंडी का पानी कैसे तैयार किया जाए |

सामग्री

4 भिंडी – Okras
1 कप साफ़ पानी – Water

विधि :-

पहले भिंडी का उपरी और निचला हिस्सा काट दीजिये और भिंडी को बीच में से काट दीजिये | और फिर भिंडी को एक कप पानी में डाल दीजिये और पूरी रात ऐसे ही छोड़ दीजिये | और दुसरे दिन इस मिश्रण का निचोड़ एक गिलास में निकाल लीजिये और उस निचोड़ में थोडा साफ़ पानी डाल लीजिये |

रोजाना सुबह खाली पेट (खाने से आधा घंटा पहले) इस मिश्रण के सेवन से आपको कुछ ही दिनों में हैरान करने वाले नतीजे प्राप्त होंगे |

SHARE
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply