कहीं आप भी तो नहीं खा रहे प्लास्ट‍िक चावल? कैसे जानें असली-नकली का फर्क…

0

भारत में आजकल मिलावटी खाद्य वस्तुओं की बिक्री होना आम बात हो गई है। सब्जियों, मिठाई, दूध और अन्य खाद्य पदार्थ जो कुछ भी आजकल हम बाजार से खरीदते हैं, उनमें अक्सर मिलावट होती है। हाल में एक नया खुलासा किया गया और वह यह कि मार्किट में मिलने वाला चावल प्लास्टिक से बना हुआ है। हम जानते हैं कि आपने इस खतरनाक सपने के बारे में सपने में भी नहीं सोचा होगा। जी हां आपने बिल्कुल सही पढ़ा है, आजकल बाजार में मिलने वाले चावल प्लास्टिक के होते हैं, यह चावल ऐसे तो चीन में निर्मित किए जाते हैं, जो दिखने में बिल्कुल चावल की तरह दिखाई देते हैं और हम उन्हें अपने सामान्य जीवन के रूप में खाते हैं। इन चावलों को पकाते समय भी आप इन दोनों में कोई फर्क नहीं बता पाएंगे। चीन में बनने वाला यह चावल अब भारत में भी प्रवेश कर चुका है। आइए आपको कुछ ऐसे महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में बताते हैं।

1. प्लास्टिक चावल कैसे बनाएं जाते हैं?

प्लास्टिक चावल बनाने के लिए आलू, मीठे आलू और प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है। प्लास्टिक का इस्तेमाल चावलों में आकार देने के लिए किया जाता है।

Plastic-rice1

2. यह प्लास्टिक की तरह जलता है

प्लास्टिक चावल बनने के बाद भी काफी कठोर रहता है। इस चावल से निकलने वाला पानी भी काफी गाढ़ा और प्लास्टिक की तरह होता है। अगर आप प्लास्टिक चावल के स्टार्च को सूखाते हैं, तो ऐसे में आपको यह पता लगेगा, कि इसे प्लास्टिक की तरह जलाया जा सकता है।

3. प्लास्टिक चावल पाॅलीथीन बैग के समान होते हैं

प्लास्टिक चावल की 3 कटोरी एक बड़ी पाॅलीथीन बैग के समान है। यह चावल ना तो पचता है और ना ही उत्सर्जित होता है।

4. यह कैंसर का कारण बन सकता है

प्लास्टिक चावल के सेवन से इसका सीधा असर पेट में पड़ता है और हमें पेट से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसके रोजाना सेवन करने से हमें कैंसर भी हो सकता है।

plastic rice 5

5. प्लास्टिक चावल की पहचान कैसे करें?

अगर आप वास्तविक चावल और प्लास्टिक चावल की तुलना करते हैं, तो ऐसे में आपको दोनों के बीच का अंतर साफ नजर आएगा। प्लास्टिक चावल चमकदार होता है और इसका वजन हल्का होता है। इन्हें अच्छी तरह से आकार दिया जाता है। इसके अलावा यह पकने में काफी समय लेता है।

plastic rice 4

6. प्लास्टिक चावल को पहचाने की ट्रिक

जब आप इन चावलों को भिगोते हैं, तो अनाज पर ध्यान दें। प्लास्टिक चावल कभी भी तैरता नहीं है, क्योंकि वह प्लास्टिक, आलू और मीठे आलू से से बना रहता है। वहीं दूसरी तरफ वास्तविक चावल पानी में तैरता है।

plastic rice 7

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply