गुड़ खायें अगर शरीर में आयरन की कमी हो

0

आयरन फेफड़ों से शरीर के अन्‍य अंगों में ऑक्‍सीजन पहुंचाने का काम करता है। आयरन यानी लौह तत्‍व एक खनिज लवण है, जो हमारे शरीर के लिए काफी जरूरी होता है। शरीर में हीमोग्‍लोबिन की कमी होना एनीमिया कहलाता है। आयरन हमारी मांसपेशियों में ऑक्‍सीजन का प्रयोग और उसे स्‍टोर करने में भी मदद करता है। आयरन कई एंजाइम्‍स का अहम हिस्‍सा होता है और कोशिकीय एंजाइम्‍स में भी इसका इस्‍तेमाल होता है। एंजाइम्‍स हमारे शरीर में भोजन पचाने में भी मदद करने के साथ ही कई महत्‍वपूर्ण काम करते हैं।

शरीर में अगर आयरन की पर्याप्‍त मात्रा न हो, तो इसका असर हमारे शरीर के कई अंगों पर पड़ता है। आयरन डेफिशियंसी उस परिस्थिति को कहते हैं, जब हमारे शरीर में आयरन की मात्रा बहुत कम हो जाती है। अमेरिका में एनीमिया की सबसे बड़ी वजह आयरन डेफिशियंसी ही है।

आयरन की कमी को दूर करने के लिए खानपान का सहारा लिया जा सकता है। यूं तो ऐसे बहुत से आहार हैं जिनके सेवन से आयरन की कमी दूर होती है लेकिन गुड़ एक ऐसा आहार है जिसमें आयरन बहुत अधिक पाया जाता है। आइये जानते हैं किस प्रकार गुड़ का सेवन आयरन की कमी को दूर कर सकता है।

गुड़ से होने वाले फायदे

गुड़ गन्ने से तैयार एक शुद्ध, अपरिष्कृत पूरी चीनी है। यह खनिज और विटामिन है जो मूल रूप से गन्ने के रस में ही मौजूद हैं। गुड़ को चीनी का शुद्धतम रूप माना जाता है। गुड़ आयरन का एक प्रमुख स्रोत है और रक्ताल्पता (एनीमिया) के शिकार व्यक्ति को चीनी के स्थान पर इसके सेवन की सलाह दी जाती है।

गुड़ का सेवन अधिकांश लोग ठंड में ही करते हैं वह भी थोड़ी मात्रा में इस सोच के साथ की ज्यादा गुड़ खाने से नुकसान होता है। इसकी प्रवृति गर्म होती है, लेकिन ये एक गलतफहमी है गुड़ हर मौसम में खाया जा सकता है और पुराना गुड़ हमेशा औषधि के रूप में काम करता है। आयुर्वेद संहिता के अनुसार यह शीघ्र पचने वाला, खून बढ़ाने वालाभूख बढ़ाने वाला होता है। इसके अतिरिक्त गुड़ से बनी चीजों के खाने से बीमारियों में राहत मिलती है।

गुड़ में सुक्रोज 59.7 प्रतिशत, ग्लूकोज 21.8 प्रतिशत, खनिज तरल 26 प्रतिशत तथा जल अंश 8.86 प्रतिशत मौजूद होते हैं। इसके अलावा गुड़ में कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा और ताम्र तत्व भी अच्छी मात्रा में मिलते हैं। इसलिए चाहे हर मौसम में आप गुड़ खाना न पसन्द करें लेकिन ठंड में गुड़ जरूर खाएं।

आयरन के लिए गुड़ का सेवन

  • गुड़ एक प्राकृतिक मिठाई है, जिसे खाने में से ब्‍लड में शुगर की समस्‍या नहीं होगी, बल्कि इसमें आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे यह आयरन की कमी भी दूर करता है।
  • भोजन के बाद गुड़ खा लेने से पेट में गैस नहीं बनती है।
  • एक चम्मच गुड़ में 3.2 मि.ग्रा. आयरन होता है। इसीलिए एनीमिया से ग्रस्त लोगों को रोज 100 ग्राम गुड़ जरूर खाना चाहिए।
  • खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ खाने से भी एनिमिया दूर होता है।
  • गुड़ को पिघलाकर मूंगफली के दाने मिला लें, और ठंडा करके गुड़ की पपड़ी बना लें। इसे सर्दियों में खाने से आयरन की भरपूर मात्रा मिल जाती है।
  • गुड़ के सेवन में यह बात जरूर ध्यान रखना चाहिए कि गुड़ पुराना हो।
इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।
Loading...

Leave a Reply