गंजापन दूर करने के 9 घरेलु उपाय

1

बूढ़ा हो या जवान गंजेपन की समस्या आम हो गई है। यह सिर्फ पुरूषों तक ही सीमित नहीं रह गया है बल्कि महिलाओं को भी होने लगा है। साधारणतः इसे एलोपेसिया भी कहते हैं। यह रोग होने पर बाल जितने जल्दी से झड़ते हैं उतने उगते नहीं हैं।

पिछले दिनों में वैज्ञानिकों ने चूहों पर किए गए एक प्रयोग से पता लगाया कि गंजेपन का इलाज जीन आधारित थेरेपी से भी संभव है। साथ ही उन्‍होंने ऐसे जीन का भी पता लगाया जो बालों को झड़ने से रोकता है। यह जीन उस प्रोटीन की गतिविधियों को बढ़ाने में मदद करता है, जो बालों को पुष्ट करते हैं।

शोधार्थी डा. जार्ज कोस्टारेलिस ने यह भी दावा किया कि गंजेपन की समस्या स्थाई नहीं होती। गंजेपन का इलाज संभव है। उनके मुताबिक बाल गिरने की समस्या सिर में मौजूद छोटे-छोटे आर्गन के खराब होने से शुरू होती है। ये आर्गन बाल उगने में मदद करते हैं। इस लेख के जरिए हम आपको बता रहे हैं गंजेपन को दूर करने के कुछ नुस्खों के बारे में।

मेथी और दही

गंजेपन के उपचार में मेथी बहुत फायदेमंद साबित होती है। मेथी को एक रात पानी में भिगोने के बाद इसे दही में मिलाकर पेस्ट तैयार कर लीजिए। मेथी और दही के पेस्ट को बालों की जड़ों में लगाइए। इसे करीब एक घंटे तक लगा रहने दें। ऐसा करने से बालों की जड़ों में मौजूद रूसी कम होगी और सिर की त्वचा में नमी आएगी। मेथी में निकोटिनिक एसिड और प्रोटीन पाया जाता है जो बालों की जड़ों में पोषण पहुंचाने के साथ ही बालों की ग्रोथ भी बढ़ाता है।

उड़द की दाल का पेस्ट

उड़द की बिना छिलके वाली दाल को उबाल कर पीस लीजिए। रात को सोने से पहले इस लेप को बालों की जड़ों में लगाइए। कपड़े गंदे न हो इसके लिए सिर पर तौलिया बांध लें। ऐसा लगातर कुछ दिनों तक करने से बाल दोबारा उगने लगते हैं और गंजापन कम हो जाता है।

प्याज़

प्याज़ में जो सल्फर होता है वह सिर में रक्त का संचालन अच्छी तरह से करने में मदद करता है। यह गंजेपन का इलाज करने में बहुत मदद करता है। ज़रूरत के अनुसार प्याज़ को टुकड़ों में काटकर पीस लें। उस पेस्ट में थोड़ा शहद डालकर अच्छी तरह से पेस्ट बना लें। उस पेस्ट को स्कैल्प पर अच्छी तरह से लगा दें। सूखने के बाद पानी से धो लें। यह स्कैल्प से फंगस और जीवाणुओं को दूर करने में मदद करता है। आप स्कैल्प पर सीधे प्याज़ को लगाकर दस-पंद्रह मिनट के बाद बालों को धो सकते हैं।

मुलेठी और केसर

मुलेठी को पीसकर इसमें थोड़ी मात्रा में दूध और केसर मिलाकर पेस्ट तैयार कर लीजिए। तैयार किए गए पेस्ट को रात को सोने से पहले सिर में लगा लीजिए। सुबह उठकर बालों में हल्का शैम्पू कर लें। ऐसा करने से धीरे-धीरे गंजापन दूर होगा।

काली मिर्च

यह सिर्फ व्यंजन का जायका ही नहीं बढ़ाता है बल्कि गंजापन दूर करने में भी मदद करता है। काली मिर्च और नींबू का बीज दोनों को अच्छी तरह से पीसकर पेस्ट जैसा बना लें। उस पेस्ट को अच्छी तरह से स्लैक्प पर लगाकर रात भर यूं ही रहने दें। अगले दिन सुबह अच्छी तरह से पानी से धो लें। यह बालों को उगने में बहुत मदद करता है।

धनिया का पत्ता

धनिया का पत्ता सिर्फ व्यंजन को आकर्षक ही नहीं बनाता है बल्कि गंजापन से राहत दिलाने में भी बहुत मदद करता है। ताजा धनिया के पत्तों को पीसकर पेस्ट बना लें और उनको सिर पर लगायें। इससे बालों का झड़ना कम होने के साथ-साथ नए बाल उगने लगते हैं।

दही

दही नैचरल कंडिशनर का काम करता है। दही का प्रोटीन बालों का झड़ना तो कम ही करता है साथ ही गंजापन दूर करने में भी बहुत मदद करता है।

केला और नींबू

एक केले के गूदे में नींबू के रस को अच्छे से मैश कर लें। इस पेस्ट को सिर पर लगाने से बालों के झड़ने की समस्या कम होती है। ऐसा करने से उड़े हुए बाल फिर से जमने लगते हैं।

कैस्टर ऑयल

कैस्टर ऑयल गंजापन दूर करने का एक घरेलु उपाय हैं। यह बाल संबंधी किसी भी समस्या के उपचार में बहुत प्रभावकारी होता है। कैस्टर ऑयल स्कैल्प पर लगाने से न सिर्फ बालों को पौष्टिकता मिलती है बल्कि बालों का झड़ना भी कम हो जाता है।

इस वेबसाइट में जो भी जानकारिया दी जा रही हैं, वो हमारे घरों में सदियों से अपनाये जाने वाले घरेल नुस्खे हैं जो हमारी दादी नानी या बड़े बुज़ुर्ग अक्सर ही इस्तेमाल किया करते थे, आज कल हम भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में इन सब को भूल गए हैं और छोटी मोटी बीमारी के लिए बिना डॉक्टर की सलाह से तुरंत गोली खा कर अपने शरीर को खराब कर देते हैं। तो ये वेबसाइट बस उसी भूले बिसरे ज्ञान को आगे बढ़ाने के लक्षय से बनाई गयी है। आप कोई भी उपचार करने से पहले अपने डॉक्टर से या वैद से परामर्श ज़रूर कर ले। यहाँ पर हम दवाएं नहीं बता रहे, हम सिर्फ घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। कई बार एक ही घरेलु नुस्खा दो व्यक्तियों के लिए अलग अलग परिणाम देता हैं। इसलिए अपनी प्रकृति को जानते हुए उसके बाद ही कोई प्रयोग करे। इसके लिए आप अपने वैद से या डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करे।

1 COMMENT

Leave a Reply